Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2024 · 1 min read

“अच्छे साहित्यकार”

“अच्छे साहित्यकार”
अच्छे साहित्यकार अपनी आँख, कान, हृदय, मस्तिष्क को खुला रखते हैं, प्राप्त अनुभवों से तर्क संगत लेखन करते हैं और दुनिया को एक नया सन्देश देते हैं।

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति

1 Like · 1 Comment · 55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
एक मीठा सा एहसास
एक मीठा सा एहसास
हिमांशु Kulshrestha
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
यही सोचकर इतनी मैने जिन्दगी बिता दी।
Taj Mohammad
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
जो ज़िम्मेदारियों से बंधे होते हैं
जो ज़िम्मेदारियों से बंधे होते हैं
Paras Nath Jha
रिश्ते
रिश्ते
Ashwani Kumar Jaiswal
सबने हाथ भी छोड़ दिया
सबने हाथ भी छोड़ दिया
Shweta Soni
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
तेरे होने का जिसमें किस्सा है
तेरे होने का जिसमें किस्सा है
shri rahi Kabeer
जीवन से तम को दूर करो
जीवन से तम को दूर करो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
■ बस, इतना कहना काफ़ी है।
■ बस, इतना कहना काफ़ी है।
*प्रणय प्रभात*
3197.*पूर्णिका*
3197.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
जैसे को तैसा
जैसे को तैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
Kishore Nigam
My Guardian Angel!
My Guardian Angel!
R. H. SRIDEVI
কেণো তুমি অবহেলনা করো
কেণো তুমি অবহেলনা করো
DrLakshman Jha Parimal
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
नवंबर की ये ठंडी ठिठरती हुई रातें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मैं कविता लिखता हूँ तुम कविता बनाती हो
मैं कविता लिखता हूँ तुम कविता बनाती हो
Awadhesh Singh
"रौनकें"
Dr. Kishan tandon kranti
गरमी का वरदान है ,फल तरबूज महान (कुंडलिया)
गरमी का वरदान है ,फल तरबूज महान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
चाँद
चाँद
लक्ष्मी सिंह
न्योता ठुकराने से पहले यदि थोड़ा ध्यान दिया होता।
न्योता ठुकराने से पहले यदि थोड़ा ध्यान दिया होता।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
SPK Sachin Lodhi
आलोचना के द्वार
आलोचना के द्वार
Suryakant Dwivedi
हिंदी की भविष्यत्काल की मुख्य क्रिया में हमेशा ऊँगा /ऊँगी (य
हिंदी की भविष्यत्काल की मुख्य क्रिया में हमेशा ऊँगा /ऊँगी (य
कुमार अविनाश 'केसर'
पत्नी के जन्मदिन पर....
पत्नी के जन्मदिन पर....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*ज़िंदगी का सफर*
*ज़िंदगी का सफर*
sudhir kumar
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
Loading...