Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2022 · 2 min read

“अच्छी आदत रोज की”

आओ बच्चों तुम्हें सिखाएं, अच्छी आदत रोज की।
जल्दी उठो शौच करो तुम, जिंदगी काटो मौज की।
नाखूनों में मैल भरे ना, उनको समय से तुम काटो।
बालों में कंघा भी कर लो, एक दूसरे को ना डांटो।
नहाओ रोज स्वच्छ कपड़े पहनो, आदत डालो खोज की।
जल्दी उठो शौच करो तुम, जिंदगी काटो मौज की।।१।।
चारों ओर हो साफ सफाई, खुद कर लो कुछ नहीं बुराई।
कानों में ना सींक करो तुम, आंखों में पानी मारो।
मिलजुल कर है रहना हमको, वाणी रखो ओज की।
जल्दी उठो शौच करो तुम, जिंदगी काटो मौज की।।२।।
गलत कभी ना बोलो तुम, मन में तोल कर खुद बोलो।
अंधविश्वास से दूर रहो तुम, बचाओ समय मीठा बोलो।
भूख में ही खाना खाओ, ये आदत डालो भोज की।
जल्दी उठो शौच करो तुम, जिंदगी काटो मौज की।।३।।
आलस का त्याग करो तुम, कभी ना आंखें चार करो।
मधुर मीठा व्यवहार करो तुम, महापुरुषों का सार पढ़ो।
पढ़ो लिखो और खेल भी खेलो, ये हो आदत रोज की।
जल्दी उठो शौच करो तुम, जिंदगी काटो मौज की।।४।।
रिश्तों का भी ध्यान करो तुम, बड़े छोटे की लाज करो।
मात पिता और सज्जनों की, सेवा को तैयार रहो।
खुश रहो प्रसन्न रहो तुम, जिंदगी लगे ना बोझ की।
जल्दी उठो शौच करो तुम, जिंदगी काटो मौज की।।५।।
अनुशासित रहो ईमानदार बनो, लापरवाही से पकड़ो कान।
अच्छा करोगे अच्छा बनोगे, देश बनेगा तभी महान।
स्पष्टता रखो बातों में तुम, ना बात करो गोलमोल की।
जल्दी उठो शौच करो तुम, जिंदगी काटो मौज की।।६।।
जातिवाद ना छुआछूत करो, भेदभाव ना ऊंच-नीच।
इंसानियत हो धर्म हमारा, कोई श्रेष्ठ ना कोई नीच।
ग्रंथ है राष्ट्रीय संविधान, ना बात करो किसी और की।
जल्दी उठो शौच करो तुम, जिंदगी काटो मौज की।।७।।
सर्वजन का आदर कर लो, सब है मानव एक समान।
एक सांस है एक खून है, फिर क्यों भेद करे इंसान।
गलत बात पर खुलकर बोलो, क्यों बात करो तुम मौन की।
जल्दी उठो शौच करो तुम, जिंदगी काटो मौज की।।८।।
जो धर्म तुम्हें नीच बताएं, वो धर्म नहीं एक धंधा है।
अनपढ़ की बात करो ना, पढ़ा लिखा भी अंधा है।
दुष्यन्त कुमार की मानों भैया, ना मक्कारी सही रोज की।
जल्दी उठो शौच करो तुम, जिंदगी काटो मौज की।।९।।
कवि- दुष्यन्त कुमार (स.अ.), गांव- तरारा, पोस्ट- उझारी, तहसील- हसनपुर, जिला- अमरोहा मो.नं- 9568140365

6 Likes · 301 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
Good things fall apart so that the best can come together.
Good things fall apart so that the best can come together.
Manisha Manjari
अर्थ नीड़ पर दर्द के,
अर्थ नीड़ पर दर्द के,
sushil sarna
*आई गंगा स्वर्ग से, उतर हिमालय धाम (कुंडलिया)*
*आई गंगा स्वर्ग से, उतर हिमालय धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"अहसास के पन्नों पर"
Dr. Kishan tandon kranti
*खत आखरी उसका जलाना पड़ा मुझे*
*खत आखरी उसका जलाना पड़ा मुझे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sari bandisho ko nibha ke dekha,
Sakshi Tripathi
क्या है खूबी हमारी बता दो जरा,
क्या है खूबी हमारी बता दो जरा,
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
Subhash Singhai
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते है, पर उनकी बातों में विश्
कुछ लोग बात तो बहुत अच्छे कर लेते है, पर उनकी बातों में विश्
जय लगन कुमार हैप्पी
दूसरे दर्जे का आदमी
दूसरे दर्जे का आदमी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
आजादी का
आजादी का "अमृत महोत्सव"
राकेश चौरसिया
इंसान जिंहें कहते
इंसान जिंहें कहते
Dr fauzia Naseem shad
¡¡¡●टीस●¡¡¡
¡¡¡●टीस●¡¡¡
Dr Manju Saini
फनकार
फनकार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
घनाक्षरी छंद
घनाक्षरी छंद
Rajesh vyas
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
महल चिन नेह का निर्मल, सुघड़ बुनियाद रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कविता
कविता
Bodhisatva kastooriya
■ विनम्र निवेदन :--
■ विनम्र निवेदन :--
*Author प्रणय प्रभात*
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
gurudeenverma198
लव यू इंडिया
लव यू इंडिया
Kanchan Khanna
"लोग क्या कहेंगे" सोच कर हताश मत होइए,
Radhakishan R. Mundhra
💐प्रेम कौतुक-379💐
💐प्रेम कौतुक-379💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चिड़िया चली गगन आंकने
चिड़िया चली गगन आंकने
AMRESH KUMAR VERMA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
* हो जाता ओझल *
* हो जाता ओझल *
surenderpal vaidya
The Hard Problem of Law
The Hard Problem of Law
AJAY AMITABH SUMAN
मुहब्बत
मुहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
कैसी है ये जिंदगी
कैसी है ये जिंदगी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मीठे बोल
मीठे बोल
Sanjay ' शून्य'
Loading...