Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2016 · 1 min read

अगर पूर्वजों के उतारे न होते .

अगर रंग – बिरंगे ये नारे न होते.
तो फिर हम भी इतने बेचारे न होते .
बस बातों के मरहम से भर जाते शायद .
अगर ज़ख्म दिल के करारे न होते .
भला किसकी हिम्मत सितम ढा सके यूँ .
अगर हम जो आदत बिगाड़े न होते .
यहाँ आबरू की ना होती तिजारत .
अगर आकाओं के सहारे न होते.
कथनी और करनी ज़ुदा गर न होती.
तो फिर वोट के लोग मारे न होते .
मिट जाती कब की ये रस्मोरिवाज़ें .
अगर पूर्वजों के उतारे न होते .
—- सतीश मापतपुरी

2 Comments · 249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-20💐
💐अज्ञात के प्रति-20💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
एकाकीपन
एकाकीपन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"बेटा-बेटी"
पंकज कुमार कर्ण
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
रमेशराज के विरोधरस के दोहे
कवि रमेशराज
दोहे- उड़ान
दोहे- उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
Anand Kumar
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
झरना का संघर्ष
झरना का संघर्ष
Buddha Prakash
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
आधुनिक युग में हम सभी जानते हैं।
Neeraj Agarwal
पड़ते ही बाहर कदम, जकड़े जिसे जुकाम।
पड़ते ही बाहर कदम, जकड़े जिसे जुकाम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दो शरारती गुड़िया
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
इतनी निराशा किस लिए
इतनी निराशा किस लिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🍁
🍁
Amulyaa Ratan
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है।  ...‌राठौड श्
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है। ...‌राठौड श्
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
The_dk_poetry
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
मैं चांद को पाने का सपना सजाता हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
प्रभु रामलला , फिर मुस्काये!
Kuldeep mishra (KD)
मन मेरा मेरे पास नहीं
मन मेरा मेरे पास नहीं
Pratibha Pandey
डरने लगता हूँ...
डरने लगता हूँ...
Aadarsh Dubey
शिक्षक को शिक्षण करने दो
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
🌷 चंद अश'आर 🌷
🌷 चंद अश'आर 🌷
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
चलो स्कूल
चलो स्कूल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोहे ( किसान के )
दोहे ( किसान के )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उस दिन पर लानत भेजता  हूं,
उस दिन पर लानत भेजता हूं,
Vishal babu (vishu)
■ हाय राम!!
■ हाय राम!!
*Author प्रणय प्रभात*
*अपना है यह रामपुर, गुणी-जनों की खान (कुंडलिया)*
*अपना है यह रामपुर, गुणी-जनों की खान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नव वर्ष हैप्पी वाला
नव वर्ष हैप्पी वाला
Satish Srijan
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
वसुत्व की असली परीक्षा सुरेखत्व है, विश्वास और प्रेम का आदर
प्रेमदास वसु सुरेखा
नारी
नारी
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
रिश्ते फीके हो गए
रिश्ते फीके हो गए
पूर्वार्थ
Loading...