Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2016 · 1 min read

अगर पूर्वजों के उतारे न होते .

अगर रंग – बिरंगे ये नारे न होते.
तो फिर हम भी इतने बेचारे न होते .
बस बातों के मरहम से भर जाते शायद .
अगर ज़ख्म दिल के करारे न होते .
भला किसकी हिम्मत सितम ढा सके यूँ .
अगर हम जो आदत बिगाड़े न होते .
यहाँ आबरू की ना होती तिजारत .
अगर आकाओं के सहारे न होते.
कथनी और करनी ज़ुदा गर न होती.
तो फिर वोट के लोग मारे न होते .
मिट जाती कब की ये रस्मोरिवाज़ें .
अगर पूर्वजों के उतारे न होते .
—- सतीश मापतपुरी

2 Comments · 183 Views
You may also like:
भ्राजक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अगर तुम प्यार करते हो तो हिम्मत क्यों नहीं करते।...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कविता : 15 अगस्त
Prabhat Pandey
दुःख का कारण बन जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
✍️सूरज से रोशन है जहाँ
'अशांत' शेखर
राजू श्रीवास्तव - एक श्रृद्धांजली
Shyam Sundar Subramanian
बेटी की विदाई
प्रीतम श्रावस्तवी
हमारी चेतना
Anamika Singh
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
*बुंदेली दोहा बिषय- डेकची*
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
नाम में क्या रखा है
सूर्यकांत द्विवेदी
बहुत खूबसूरत
shabina. Naaz
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
💐संसारे कः अपि स्व न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#मेरे मन
आर.एस. 'प्रीतम'
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
ट्रस्टीशिप विचार: 1982 में प्रकाशित मेरी पुस्तक
Ravi Prakash
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जन्म दिन का खास तोहफ़ा।
Taj Mohammad
फस्ट किस ऑफ माई लाइफ
Gouri tiwari
दिल यूँ ही नही मिला था
N.ksahu0007@writer
दिखती है व्यवहार में ,ये बात बहुत स्पष्ट
Dr Archana Gupta
लोग समझते क्यों नही ?
पीयूष धामी
इन्सान
Seema 'Tu hai na'
भ्रष्ट राजनीति
Shekhar Chandra Mitra
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
मचल रहा है दिल,इसे समझाओ
Ram Krishan Rastogi
Loading...