Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

अंतरिक्ष के चले सितारे

अंतरिक्ष के चले सितारे
नई उड़ाने भरने को
नई आस है नई उमंग
सपने पूरे करने को

हौसले बुलंद लिए
आंखों में उमंग लिए
सपनो के ये रंग लिए
संघर्षों को संग लिए

अंतरिक्ष के चले सितारे….
नई उड़ान भरने को…

दृढ़ संकल्पित आशाएं
अंतरमन की अभिलाषाएं
आंधियों में जलते बुझते
दिए कई जलाने को….

अंधयालो की फिक्र नहीं है
थक जाने का जिक्र नहीं है
अंधयारों की राहों मे भी
चले उजियाला पाने को

अंतरिक्ष के चले सितारे
नई उड़ान भरने को…

आसमान में सबसे ऊचा
परचम यह लहराने को
लोहागढ़ की कर्मभूमि पर
इतिहास नया बनाने को

अंतरिक्ष के चले सितारे….
नई उड़ान भरने को…

पवनों का वह वेग लिए
दिनकर सा आवेग लिए
नदियों सा गुमान लिए
चट्टानों से टकराने को

अंतरिक्ष के चले सितारे …
नई उड़ान भरने को

✍️Kavi deepak saral

Language: Hindi
1 Like · 35 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक दूसरे से बतियाएं
एक दूसरे से बतियाएं
surenderpal vaidya
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
कभी कभी ज़िंदगी में जैसे आप देखना चाहते आप इंसान को वैसे हीं
पूर्वार्थ
वीरगति
वीरगति
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
कह कर गुजर गई उस रास्ते से,
Shakil Alam
आंसू
आंसू
नूरफातिमा खातून नूरी
दवा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर,
दवा की तलाश में रहा दुआ को छोड़कर,
Vishal babu (vishu)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कछुआ और खरगोश
कछुआ और खरगोश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फितरत आपकी जैसी भी हो
फितरत आपकी जैसी भी हो
Arjun Bhaskar
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
Surinder blackpen
*सर्दी-गर्मी अब कहॉं, जब तन का अवसान (कुंडलिया)*
*सर्दी-गर्मी अब कहॉं, जब तन का अवसान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
देह खड़ी है
देह खड़ी है
Dr. Sunita Singh
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
*रंग पंचमी*
*रंग पंचमी*
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कर दिया है राम,तुमको बहुत बदनाम
कर दिया है राम,तुमको बहुत बदनाम
gurudeenverma198
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
खींचकर हाथों से अपने ही वो सांँसे मेरी,
खींचकर हाथों से अपने ही वो सांँसे मेरी,
Neelam Sharma
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जीवन में संघर्ष सक्त है।
जीवन में संघर्ष सक्त है।
Omee Bhargava
विरहणी के मुख से कुछ मुक्तक
विरहणी के मुख से कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/226. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
Ankita Patel
■ एक और शेर ■
■ एक और शेर ■
*Author प्रणय प्रभात*
आज, पापा की याद आई
आज, पापा की याद आई
Rajni kapoor
"कोहरा रूपी कठिनाई"
Yogendra Chaturwedi
💐प्रेम कौतुक-163💐
💐प्रेम कौतुक-163💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
***दिल बहलाने  लाया हूँ***
***दिल बहलाने लाया हूँ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
या तो लाल होगा या उजले में लपेटे जाओगे
Keshav kishor Kumar
"अतितॄष्णा न कर्तव्या तॄष्णां नैव परित्यजेत्।
Mukul Koushik
"चापलूसी"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...