Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

Love is

Love is
Some time
Bad word
For life …

– Otteri Selva Kumar

65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Maine Dekha Hai Apne Bachpan Ko...!
Srishty Bansal
🙏🙏 अज्ञानी की कलम 🙏🙏
🙏🙏 अज्ञानी की कलम 🙏🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
So many of us are currently going through huge energetic shi
So many of us are currently going through huge energetic shi
पूर्वार्थ
भ्रम जाल
भ्रम जाल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
आड़ी तिरछी पंक्तियों को मान मिल गया,
Satish Srijan
🍁मंच🍁
🍁मंच🍁
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
आप आज शासक हैं
आप आज शासक हैं
DrLakshman Jha Parimal
तेरी मेरी तस्वीर
तेरी मेरी तस्वीर
Neeraj Agarwal
3074.*पूर्णिका*
3074.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हर चाह..एक आह बनी
हर चाह..एक आह बनी
Priya princess panwar
💐प्रेम कौतुक-418💐
💐प्रेम कौतुक-418💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*कोई नई ना बात है*
*कोई नई ना बात है*
Dushyant Kumar
जीवन में कम से कम एक ऐसा दोस्त जरूर होना चाहिए ,जिससे गर सप्
जीवन में कम से कम एक ऐसा दोस्त जरूर होना चाहिए ,जिससे गर सप्
ruby kumari
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
Dr MusafiR BaithA
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
बाढ़ और इंसान।
बाढ़ और इंसान।
Buddha Prakash
*दबाए मुँह में तम्बाकू, ये पीकें थूके जाते हैं (हास्य मुक्तक)*
*दबाए मुँह में तम्बाकू, ये पीकें थूके जाते हैं (हास्य मुक्तक)*
Ravi Prakash
"सूत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
विचार मंच भाग - 6
विचार मंच भाग - 6
डॉ० रोहित कौशिक
" अंधेरी रातें "
Yogendra Chaturwedi
** सपने सजाना सीख ले **
** सपने सजाना सीख ले **
surenderpal vaidya
बे-ख़ुद
बे-ख़ुद
Shyam Sundar Subramanian
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
AJAY AMITABH SUMAN
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
अजहर अली (An Explorer of Life)
फनकार
फनकार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अब किसपे श्रृंगार करूँ
अब किसपे श्रृंगार करूँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
तू फ़रिश्ता है अगर तो
तू फ़रिश्ता है अगर तो
*Author प्रणय प्रभात*
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
Shweta Soni
Loading...