Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2024 · 1 min read

it’s a generation of the tired and fluent in silence.

it’s a generation of the tired and fluent in silence.

They may say we are hardworking and ambitious and goal oriented, but they don’t see behind the scene how our eyes lose the sparks every time and how frustrated our hearts can become from running fast afraid to be left behind.

The jobs may allow us to earn money, but how come we can’t buy time for oursleves to reflect and value life itself?

We are exhausted from running.

And so we need to detach ourselves from the world for a while to recharge and gain some energy so we can create great decisions for life.

57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तंग जिंदगी
तंग जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
"पता नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
कोई गीता समझता है कोई कुरान पढ़ता है ।
कोई गीता समझता है कोई कुरान पढ़ता है ।
Dr. Man Mohan Krishna
पर्यावरण
पर्यावरण
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कालः  परिवर्तनीय:
कालः परिवर्तनीय:
Bhupendra Rawat
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
कभी यदि मिलना हुआ फिर से
Dr Manju Saini
बाल विवाह
बाल विवाह
Mamta Rani
👍कमाल👍
👍कमाल👍
*प्रणय प्रभात*
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
"सफर"
Yogendra Chaturwedi
लुगाई पाकिस्तानी रे
लुगाई पाकिस्तानी रे
gurudeenverma198
मंजिल नई नहीं है
मंजिल नई नहीं है
Pankaj Sen
2541.पूर्णिका
2541.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
राष्ट्र निर्माता गुरु
राष्ट्र निर्माता गुरु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
एक बाप ने शादी में अपनी बेटी दे दी
शेखर सिंह
हिन्दी पढ़ लो -'प्यासा'
हिन्दी पढ़ लो -'प्यासा'
Vijay kumar Pandey
एक ख़्वाहिश
एक ख़्वाहिश
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माॅं की कशमकश
माॅं की कशमकश
Harminder Kaur
आस्था
आस्था
Neeraj Agarwal
नफ़रत सहना भी आसान हैं.....⁠♡
नफ़रत सहना भी आसान हैं.....⁠♡
ओसमणी साहू 'ओश'
मैं अकेला महसूस करता हूं
मैं अकेला महसूस करता हूं
पूर्वार्थ
आपके मन की लालसा हर पल आपके साहसी होने का इंतजार करती है।
आपके मन की लालसा हर पल आपके साहसी होने का इंतजार करती है।
Paras Nath Jha
*रोटी उतनी लीजिए, थाली में श्रीमान (कुंडलिया)*
*रोटी उतनी लीजिए, थाली में श्रीमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
वक़्त ने जिनकी
वक़्त ने जिनकी
Dr fauzia Naseem shad
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
|| हवा चाल टेढ़ी चल रही है ||
Dr Pranav Gautam
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
देखकर प्यारा सवेरा
देखकर प्यारा सवेरा
surenderpal vaidya
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...