Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2023 · 1 min read

“In the tranquil embrace of the night,

In the tranquil embrace of the night,
Feelings and memories take flight.
The wind rhymes a song with the unseen nightingales,
So many hearts are ablaze with exciting tales.
From within, the wounds begin to softly weep,
In the twilight of feelings, emotions run deep.
Dreams and desires start to bleed with a soothing touch,
So confused, do you love or hate, so much?
Habituated to hiding the deep cuts in the sunlight,
And caressing the scars, lonely in the moon’s white.
How peculiar, we gaze upon a shattered star’s gleam,
Can it mend the hearts that shattered love’s dream?
A firefly approaches, it’s light in our eyes,
The heart whispers so softly as hope takes to the skies.

154 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
अभिसप्त गधा
अभिसप्त गधा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इंतजार करते रहे हम उनके  एक दीदार के लिए ।
इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
Yogendra Chaturwedi
फूलों सी मुस्कुराती हुई शान हो आपकी।
फूलों सी मुस्कुराती हुई शान हो आपकी।
Phool gufran
संघर्ष और निर्माण
संघर्ष और निर्माण
नेताम आर सी
भारत की देख शक्ति, दुश्मन भी अब घबराते है।
भारत की देख शक्ति, दुश्मन भी अब घबराते है।
Anil chobisa
सुरक्षा
सुरक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
3155.*पूर्णिका*
3155.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विनती
विनती
कविता झा ‘गीत’
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
ॐ शिव शंकर भोले नाथ र
Swami Ganganiya
संवेदनहीन
संवेदनहीन
अखिलेश 'अखिल'
जला रहा हूँ ख़ुद को
जला रहा हूँ ख़ुद को
Akash Yadav
"वोटर जिन्दा है"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
!! जानें कितने !!
!! जानें कितने !!
Chunnu Lal Gupta
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
काश आज चंद्रमा से मुलाकाकत हो जाती!
पूर्वार्थ
* उपहार *
* उपहार *
surenderpal vaidya
✒️कलम की अभिलाषा✒️
✒️कलम की अभिलाषा✒️
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
रस्म ए उल्फ़त में वफ़ाओं का सिला
रस्म ए उल्फ़त में वफ़ाओं का सिला
Monika Arora
तैराक हम गहरे पानी के,
तैराक हम गहरे पानी के,
Aruna Dogra Sharma
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
*ईख (बाल कविता)*
*ईख (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सुवह है राधे शाम है राधे   मध्यम  भी राधे-राधे है
सुवह है राधे शाम है राधे मध्यम भी राधे-राधे है
Anand.sharma
ख़ुद के प्रति कुछ कर्तव्य होने चाहिए
ख़ुद के प्रति कुछ कर्तव्य होने चाहिए
Sonam Puneet Dubey
मन का मिलन है रंगों का मेल
मन का मिलन है रंगों का मेल
Ranjeet kumar patre
चल पनघट की ओर सखी।
चल पनघट की ओर सखी।
Anil Mishra Prahari
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...