Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2017 · 1 min read

II रास्ते में हूं…II

रास्ते में हूं, पर उसे ढूंढता l
नासमझ हूं यह, क्या ढूंढता ll
ईंट बालू के जंगल, वही देवता l
फरियादों का क्यों, असर ढूंढ़ता ll

शाम आई पूरा ,सफर ना हुआ l
चाल डगमग है ,हमसफ़र ना हुआ ll
मन तलाशे क्या, अजनबी देश में l
राह गुम है जो, वही पता पूछता ll

जो मिले दोस्त भी, मतलब के यहां l
जीवन यहां है, कहो जाएं कहां ll
मन में मरुस्थल ,कब से ,भटकता रहा l
प्यार में सागर अब ,शिखर ढूंढता ll

संजय सिंह “सलिल ”
प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश l

Language: Hindi
483 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन
मन
Punam Pande
उठ वक़्त के कपाल पर,
उठ वक़्त के कपाल पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ईमानदार  बनना
ईमानदार बनना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
उन सड़कों ने प्रेम जिंदा रखा है
उन सड़कों ने प्रेम जिंदा रखा है
Arun Kumar Yadav
गज़ल क्या लिखूँ मैं तराना नहीं है
गज़ल क्या लिखूँ मैं तराना नहीं है
VINOD CHAUHAN
पानी  के छींटें में भी  दम बहुत है
पानी के छींटें में भी दम बहुत है
Paras Nath Jha
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
हाइकु : रोहित वेमुला की ’बलिदान’ आत्महत्या पर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
मेरा ब्लॉग अपडेट दिनांक 2 अक्टूबर 2023
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
काली घनी अंधेरी रात में, चित्र ढूंढता हूं  मैं।
काली घनी अंधेरी रात में, चित्र ढूंढता हूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
बूढ़ा बापू
बूढ़ा बापू
Madhu Shah
अंतरद्वंद
अंतरद्वंद
Happy sunshine Soni
"पंछी"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा तोता
मेरा तोता
Kanchan Khanna
शिक्षक हमारे देश के
शिक्षक हमारे देश के
Bhaurao Mahant
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
Vishal babu (vishu)
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
*द लीला पैलेस, जयपुर में तीन दिन दो रात्रि प्रवास : 26, 27, 28 अगस्त 202
*द लीला पैलेस, जयपुर में तीन दिन दो रात्रि प्रवास : 26, 27, 28 अगस्त 202
Ravi Prakash
তুমি এলে না
তুমি এলে না
goutam shaw
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
umesh mehra
मोहब्बत बनी आफत
मोहब्बत बनी आफत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आखिरी दिन होगा वो
आखिरी दिन होगा वो
shabina. Naaz
हो सके तो मुझे भूल जाओ
हो सके तो मुझे भूल जाओ
Shekhar Chandra Mitra
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुझमें मुझसा
मुझमें मुझसा
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हें कुछ-कुछ सुनाई दे रहा है।
तुम्हें कुछ-कुछ सुनाई दे रहा है।
*प्रणय प्रभात*
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
आज फिर हाथों में गुलाल रह गया
Rekha khichi
अंगारों को हवा देते हैं. . .
अंगारों को हवा देते हैं. . .
sushil sarna
एक उम्र बहानों में गुजरी,
एक उम्र बहानों में गुजरी,
पूर्वार्थ
श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं
श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं
Shankar N aanjna
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
बीत गया प्यारा दिवस,करिए अब आराम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...