Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2023 · 1 min read

Gulab ke hasin khab bunne wali

Gulab ke hasin khab bunne wali
Ye shatir aakhe
teri fiki maujudagi ko
Chaka- chaudh samjh baithi.
Lipat gayi tujhse,teri aashiyane ka
Khab bunne lagi
Na ja ne ye kaisa khamiyaja
Bhugat rahi
Ki tujhse mil kar bhi
Tujhme na mil saki

1 Like · 400 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
भूमि भव्य यह भारत है!
भूमि भव्य यह भारत है!
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
* रामचरितमानस का पाठ*
* रामचरितमानस का पाठ*
Ravi Prakash
#मुक्तक
#मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
छाले पड़ जाए अगर राह चलते
छाले पड़ जाए अगर राह चलते
Neeraj Mishra " नीर "
कविता
कविता
Shiva Awasthi
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तीर'गी  तू  बता  रौशनी  कौन है ।
तीर'गी तू बता रौशनी कौन है ।
Neelam Sharma
हिम्मत वाली प्रेमी प्रेमिका पति पत्नी बनतेहै,
हिम्मत वाली प्रेमी प्रेमिका पति पत्नी बनतेहै,
पूर्वार्थ
"अजीब दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
Vivek Mishra
जनक छन्द के भेद
जनक छन्द के भेद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शहर में नकाबधारी
शहर में नकाबधारी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
एक छोटी सी आश मेरे....!
एक छोटी सी आश मेरे....!
VEDANTA PATEL
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
Ab kya bataye ishq ki kahaniya aur muhabbat ke afsaane
गुप्तरत्न
सरस्वती पूजा में प्रायश्चित यज्ञ उर्फ़ करेला नीम चढ़ा / MUSAFIR BAITHA
सरस्वती पूजा में प्रायश्चित यज्ञ उर्फ़ करेला नीम चढ़ा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
लड्डू बद्री के ब्याह का
लड्डू बद्री के ब्याह का
Kanchan Khanna
"रातरानी"
Ekta chitrangini
पत्थरवीर
पत्थरवीर
Shyam Sundar Subramanian
यह मेरी मजबूरी नहीं है
यह मेरी मजबूरी नहीं है
VINOD CHAUHAN
ज़िंदा हूं
ज़िंदा हूं
Sanjay ' शून्य'
यारो हम तो आज भी
यारो हम तो आज भी
Sunil Maheshwari
आज भी अधूरा है
आज भी अधूरा है
Pratibha Pandey
धधक रही हृदय में ज्वाला --
धधक रही हृदय में ज्वाला --
Seema Garg
हे ! गणपति महाराज
हे ! गणपति महाराज
Ram Krishan Rastogi
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
ruby kumari
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
हाथ छुडाकर क्यों गया तू,मेरी खता बता
डा गजैसिह कर्दम
बारिश पर लिखे अशआर
बारिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
Loading...