Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2023 · 1 min read

Gulab ke hasin khab bunne wali

Gulab ke hasin khab bunne wali
Ye shatir aakhe
teri fiki maujudagi ko
Chaka- chaudh samjh baithi.
Lipat gayi tujhse,teri aashiyane ka
Khab bunne lagi
Na ja ne ye kaisa khamiyaja
Bhugat rahi
Ki tujhse mil kar bhi
Tujhme na mil saki

1 Like · 62 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
💐रामायणं तापस-प्रकरणं....💐
💐रामायणं तापस-प्रकरणं....💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Dr. Seema Varma
झूम रही है मंजरी , देखो अमुआ डाल ।
झूम रही है मंजरी , देखो अमुआ डाल ।
Rita Singh
तुम ढाल हो मेरी
तुम ढाल हो मेरी
गुप्तरत्न
ग़म
ग़म
Dr.S.P. Gautam
*पद के पीछे लोग 【कुंडलिया】*
*पद के पीछे लोग 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ज़िन्दगी का रंग उतरे
ज़िन्दगी का रंग उतरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Shyam Pandey
प्रेम निभाना
प्रेम निभाना
लक्ष्मी सिंह
आग उगलती मेरी क़लम
आग उगलती मेरी क़लम
Shekhar Chandra Mitra
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
Er.Navaneet R Shandily
अनेक मौसम
अनेक मौसम
Seema gupta,Alwar
Jindagi ka kya bharosa,
Jindagi ka kya bharosa,
Sakshi Tripathi
सागर में अनगिनत प्यार की छटाएं है
सागर में अनगिनत प्यार की छटाएं है
'अशांत' शेखर
ओ मुसाफिर, जिंदगी से इश्क कर
ओ मुसाफिर, जिंदगी से इश्क कर
Rajeev Dutta
बिखरा था बस..
बिखरा था बस..
Vijay kumar Pandey
पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां
पुलवामा हमले पर शहीदों को नमन चार पंक्तियां
कवि दीपक बवेजा
"मुसव्विर ने सभी रंगों को
*Author प्रणय प्रभात*
प्रतिबिंब
प्रतिबिंब
Dr. Rajiv
एक पेड़ ही तो है जो सभी प्राणियो को छाँव देता है,
एक पेड़ ही तो है जो सभी प्राणियो को छाँव देता है,
Shubham Pandey (S P)
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अति आत्मविश्वास
अति आत्मविश्वास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
लहू का कतरा कतरा
लहू का कतरा कतरा
Satish Srijan
कभी-कभी वक़्त की करवट आपको अचंभित कर जाती है.......चाहे उस क
कभी-कभी वक़्त की करवट आपको अचंभित कर जाती है.......चाहे उस क
Seema Verma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मुझे ना छेड़ अभी गर्दिशे -ज़माने तू
मुझे ना छेड़ अभी गर्दिशे -ज़माने तू
shabina. Naaz
~रेत की आत्मकथा ~
~रेत की आत्मकथा ~
Vijay kannauje
💐रे मनुष्य💐
💐रे मनुष्य💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...