Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

Finding alternative is not as difficult as becoming alterna

Finding alternative is not as difficult as becoming alternative .

110 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कलम , रंग और कूची
कलम , रंग और कूची
Dr. Kishan tandon kranti
"मैं मजाक हूँ "
भरत कुमार सोलंकी
महिला दिवस
महिला दिवस
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सफ़र जिंदगी के.....!
सफ़र जिंदगी के.....!
VEDANTA PATEL
बदल जाएगा तू इस हद तलक़ मैंने न सोचा था
बदल जाएगा तू इस हद तलक़ मैंने न सोचा था
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कभी लौट गालिब देख हिंदुस्तान को क्या हुआ है,
कभी लौट गालिब देख हिंदुस्तान को क्या हुआ है,
शेखर सिंह
*कवि बनूँ या रहूँ गवैया*
*कवि बनूँ या रहूँ गवैया*
Mukta Rashmi
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
तूं मुझे एक वक्त बता दें....
Keshav kishor Kumar
तुम भी जनता मैं भी जनता
तुम भी जनता मैं भी जनता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यायावर
यायावर
Satish Srijan
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जिंदगी का हिसाब
जिंदगी का हिसाब
Surinder blackpen
सिलसिला
सिलसिला
Ramswaroop Dinkar
" टैगोर "
सुनीलानंद महंत
दीवाली शुभकामनाएं
दीवाली शुभकामनाएं
kumar Deepak "Mani"
कुछ टूट गया
कुछ टूट गया
Dr fauzia Naseem shad
*साठ बरस के हो गए, हुए सीनियर आज (हास्य कुंडलिया)*
*साठ बरस के हो गए, हुए सीनियर आज (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
2611.पूर्णिका
2611.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अधूरी सी ज़िंदगी   ....
अधूरी सी ज़िंदगी ....
sushil sarna
बाबूजी।
बाबूजी।
Anil Mishra Prahari
प्रार्थना के स्वर
प्रार्थना के स्वर
Suryakant Dwivedi
ଆପଣ କିଏ??
ଆପଣ କିଏ??
Otteri Selvakumar
मानवता
मानवता
Rahul Singh
अति-उताक्ली नई पीढ़ी
अति-उताक्ली नई पीढ़ी
*Author प्रणय प्रभात*
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
बदन खुशबुओं से महकाना छोड़ दे
कवि दीपक बवेजा
रख लेना तुम सम्भाल कर
रख लेना तुम सम्भाल कर
Pramila sultan
पल
पल
Sangeeta Beniwal
कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
कभी पथभ्रमित न हो,पथर्भिष्टी को देखकर।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
Loading...