Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 15, 2017 · 1 min read

—-

इक सिवा सांस के क्या बाकी है
ज़िंदगी अब भी क्यूं सताती है

दरमिया अपने इक खलिश सी है
वास्ता ये ही एक बाकी है

ज़िंदगी की तमाम खुशियां भी
मैंने तेरी नज़र पे वारी है

खौफ हमको क्या जीने मरने का
संग यादो की जब पिटारी है

सोचते हैं तुम्हें बतायें क्या
आशिकी में भी जगहंसाई है

राजे दिल दिल में ही रहा हरदम
बात होठो को छू न पाई है

आखिरश सेज सज रही आंगन
संग अपने सभी ही साथी है

बाज आये हैं हम मुहब्बत से
हर जगह ही तो बेईमानी है

मिलके बिछड़े कभी मिलेंगे फिर
ज़िंदगी की यही कहानी है

1 Like · 180 Views
You may also like:
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️बड़ी ज़िम्मेदारी है ✍️
Vaishnavi Gupta
बाबू जी
Anoop Sonsi
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
महँगाई
आकाश महेशपुरी
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
गीत
शेख़ जाफ़र खान
तीन किताबें
Buddha Prakash
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...