Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

2963.*पूर्णिका*

2963.*पूर्णिका*
🌷 मेरे लिए दुनिया खूबसूरत है 🌷
2212 22 22 1222
मेरे लिए ये दुनिया खूबसूरत है ।
तेरे लिए ये दुनिया खूबसूरत है ।।
खिलती यहाँ कलियां यूं महकती रहती ।
गुलशन जहाँ बेहद ही खूबसूरत है।।
ये रात भी सुंदर दिन के उजालो में।
सच रंग तो कुदरत का खूबसूरत है ।।
ना गम यहाँ है रख दिल में खुशी अपनी।
पथ नेकियों की चाहत खूबसूरत है ।।
अब साथ पाकर देते साथ खेदू को ।
ये जिंदगी तो अपनी खूबसूरत है ।।
…………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
27-01-2024शनिवार

61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
Rj Anand Prajapati
संविधान से, ये देश चलता,
संविधान से, ये देश चलता,
SPK Sachin Lodhi
राखी सांवन्त
राखी सांवन्त
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम सृजन के पथ चलेंगे
हम सृजन के पथ चलेंगे
Mohan Pandey
- फुर्सत -
- फुर्सत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
'अशांत' शेखर
गम्भीर हवाओं का रुख है
गम्भीर हवाओं का रुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
कैसी-कैसी हसरत पाले बैठे हैं
विनोद सिल्ला
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
प्यार करने वाले
प्यार करने वाले
Pratibha Pandey
My Guardian Angel
My Guardian Angel
Manisha Manjari
#वंदन_अभिनंदन
#वंदन_अभिनंदन
*Author प्रणय प्रभात*
2538.पूर्णिका
2538.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
और तो क्या ?
और तो क्या ?
gurudeenverma198
महसूस कर रही हूँ बेरंग ख़ुद को मैं
महसूस कर रही हूँ बेरंग ख़ुद को मैं
Neelam Sharma
तुम्हारे  रंग  में  हम  खुद  को  रंग  डालेंगे
तुम्हारे रंग में हम खुद को रंग डालेंगे
shabina. Naaz
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
आप कुल्हाड़ी को भी देखो, हत्थे को बस मत देखो।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
स्वार्थी नेता
स्वार्थी नेता
पंकज कुमार कर्ण
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
*****खुद का परिचय *****
*****खुद का परिचय *****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
होली है!
होली है!
Dr. Shailendra Kumar Gupta
प्रयास जारी रखें
प्रयास जारी रखें
Mahender Singh
पिता
पिता
Dr Manju Saini
बसंत बहार
बसंत बहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
रोज हमको सताना गलत बात है
रोज हमको सताना गलत बात है
कृष्णकांत गुर्जर
#दोहे
#दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
*सभी के साथ सामंजस्य, बैठाना जरूरी है (हिंदी गजल)*
*सभी के साथ सामंजस्य, बैठाना जरूरी है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
"हंस"
Dr. Kishan tandon kranti
हमें न बताइये,
हमें न बताइये,
शेखर सिंह
Loading...