Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2023 · 1 min read

2813. *पूर्णिका*

2813. पूर्णिका
कोशिश करते
22 22
कोशिश करते ।
आगे बढ़ते ।।
मिलती मंजिल।
शिखरें चढ़ते।।
सोच सशक्त रख।
दुनिया गढ़ते।।
पूछे क्या प्रश्न ।
पुस्तकें पढ़ते ।।
जीवन खेदू।
हीरा मढ़ते।।
………✍ डॉ .खेदू भारती”सत्येश”
12-12-2023मंगलवार

149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ संडे स्पेशल
■ संडे स्पेशल
*Author प्रणय प्रभात*
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
ये जो तुम कुछ कहते नहीं कमाल करते हो
Ajay Mishra
जब -जब धड़कन को मिली,
जब -जब धड़कन को मिली,
sushil sarna
हम भी अगर बच्चे होते
हम भी अगर बच्चे होते
नूरफातिमा खातून नूरी
उपहास
उपहास
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अभिमान  करे काया का , काया काँच समान।
अभिमान करे काया का , काया काँच समान।
Anil chobisa
*** लम्हा.....!!! ***
*** लम्हा.....!!! ***
VEDANTA PATEL
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
ये भी सच है के हम नही थे बेइंतेहा मशहूर
ये भी सच है के हम नही थे बेइंतेहा मशहूर
'अशांत' शेखर
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आंखों की भाषा के आगे
आंखों की भाषा के आगे
Ragini Kumari
2557.पूर्णिका
2557.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*आदमी यह सोचता है, मैं अमर हूॅं मैं अजर (हिंदी गजल)*
*आदमी यह सोचता है, मैं अमर हूॅं मैं अजर (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
मैं बहुतों की उम्मीद हूँ
ruby kumari
तेरी खुशबू
तेरी खुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"जुबांँ की बातें "
Yogendra Chaturwedi
धिक्कार है धिक्कार है ...
धिक्कार है धिक्कार है ...
आर एस आघात
बुद्ध वचन सुन लो
बुद्ध वचन सुन लो
Buddha Prakash
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Pratibha Pandey
गल्तफ़हमी है की जहाँ सूना हो जाएगा,
गल्तफ़हमी है की जहाँ सूना हो जाएगा,
_सुलेखा.
पतझड़ के दिन
पतझड़ के दिन
DESH RAJ
इश्क
इश्क
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
शायरी संग्रह नई पुरानी शायरियां विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
जो बैठा है मन के अंदर उस रावण को मारो ना
जो बैठा है मन के अंदर उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
स्वयं से करे प्यार
स्वयं से करे प्यार
Dr fauzia Naseem shad
नफरत दिलों की मिटाने, आती है यह होली
नफरत दिलों की मिटाने, आती है यह होली
gurudeenverma198
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
एहसास
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
Change is hard at first, messy in the middle, gorgeous at th
Change is hard at first, messy in the middle, gorgeous at th
पूर्वार्थ
गुरु मेरा मान अभिमान है
गुरु मेरा मान अभिमान है
Harminder Kaur
Loading...