Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2024 · 1 min read

शायरी – गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा – संदीप ठाकुर

गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा
हाथ में तेरा हाथ ख़ुशबू सा
हो के तुझ से जुदा भटकता हूँ
गुल से बिछड़ी अनाथ ख़ुशबू सा

संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur

97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
■ आज की बात...!
■ आज की बात...!
*प्रणय प्रभात*
"ताकीद"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं क्यों याद करूँ उनको
मैं क्यों याद करूँ उनको
gurudeenverma198
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
आप प्लस हम माइनस, कैसे हो गठजोड़ ?
आप प्लस हम माइनस, कैसे हो गठजोड़ ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
Basant Bhagawan Roy
2351.पूर्णिका
2351.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*अध्याय 11*
*अध्याय 11*
Ravi Prakash
तारे हैं आसमां में हजारों हजार दोस्त।
तारे हैं आसमां में हजारों हजार दोस्त।
सत्य कुमार प्रेमी
दोस्त ना रहा ...
दोस्त ना रहा ...
Abasaheb Sarjerao Mhaske
आप अपनी नज़र से
आप अपनी नज़र से
Dr fauzia Naseem shad
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
Phool gufran
मुस्कुरा दो ज़रा
मुस्कुरा दो ज़रा
Dhriti Mishra
हम
हम
Adha Deshwal
// अंधविश्वास //
// अंधविश्वास //
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रंग जाओ
रंग जाओ
Raju Gajbhiye
नियति
नियति
surenderpal vaidya
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
आखरी है खतरे की घंटी, जीवन का सत्य समझ जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"जब भी ये दिल हताश होता है"
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
स्थितिप्रज्ञ चिंतन
स्थितिप्रज्ञ चिंतन
Shyam Sundar Subramanian
वापस
वापस
Harish Srivastava
कन्या
कन्या
Bodhisatva kastooriya
बिन चाहे गले का हार क्यों बनना
बिन चाहे गले का हार क्यों बनना
Keshav kishor Kumar
खुश रहने की कोशिश में
खुश रहने की कोशिश में
Surinder blackpen
जीवन का हर पल बेहतर होता है।
जीवन का हर पल बेहतर होता है।
Yogendra Chaturwedi
तितली रानी (बाल कविता)
तितली रानी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
ग़ज़ल _ मिल गयी क्यूँ इस क़दर तनहाईयाँ ।
ग़ज़ल _ मिल गयी क्यूँ इस क़दर तनहाईयाँ ।
Neelofar Khan
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
किस्मत का लिखा होता है किसी से इत्तेफाकन मिलना या किसी से अच
पूर्वार्थ
Loading...