#23 Trending Author
Sep 25, 2021 · 2 min read

बँटवारा (मार्मिक कविता)

बँटवारा

आज भाइयों के बीच कहा सुनी हो रही
क्योंकि बँटवारा जो हो रहा है
लेकिन ये लड़ाई वो नहीं
जब पिता कुछ खाने को लाते थे
और ये लड़ते थे झगड़ते थे
और बाँटकर खाते थे।
कभी एक ही थाली में
दोनों बैठकर खाते थे
एक दूसरे को स्नेह से निहारते थे
उफ़ ! ये बँटवारा ! आज
एक दूसरे को देखना भी नहीं चाहते।

बाबूजी बीमार हैं
उनका कोई आस नहीं
दोनों बोलते पिता अभी उनके हिस्से में नहीं है
बुढापे में एक लोटा पानी नसीब नहीं
उफ़ ! ये बँटवारा ! आज
पिता भी बँट गए।

छोटी बहू आज झल्ला रही है
तो क्या बड़ी किसी से कम है
और ये कलह बढ़ता ही जा रहा
उफ़ ! ये बँटवारा ! आज
पिता संताप से मर रहे।

आज बूढ़े के आँखों से झर झर आँसू गिर रहे
लेकिन वो किसे बुलाए वो तो हैं बँटे हुए
बराबर बाँटने के बाद भी उनके नजर में चढ़े हुए
उफ़ ! ये बँटवारा ! संतान के नजर में
पिता बेईमान हो गए।

हमें आजादी से जीने तो दो
सुख चैन से मरने तो दो
बूढा कातर हो मिन्नते कर रहा
उफ़ ! ये बँटवारा ! आज
कपूत उन्हें जबरन गंगा लाभ करा रहे।

आज मन के हारे ग़म के मारे
बूढ़े की जान एक ही डुबकी से निकल गए
ये सुनकर सबके आँखों में आँसू आ गए
उफ़ ! ये बँटवारा ! “किशन”
सबको अंतिम संस्कार के लिए बुला रहे।

ये जमाने का दोष या संस्कार का
जो माँ – बाप का सत्कार नहीं करते
जीते जी बात बात में दुत्कारते
उफ़ ! उसे मारने या मरने के बाद
पाँच गाँव को कचौड़ी जलेबी खिलाते।

मैं किससे कहूँ उस बूढ़े का दुःख
जो संतान के लिए सदा ढूँढता रहा सुख
आज उस पिता के अकाल मृत्यु देखकर
“कारीगर” हाथ जोड़कर कह रहा
मत करो ऐसा बँटवारा !
मत करो ऐसा बँटवारा !!
मत करो ऐसा बँटवारा !!!

मूल- डॉ०किशन कारीगर
अनुवाद-अमर ठाकुर

(डॉ० किशन कारीगर का मैथिली काव्य संग्रह ‘किछु फुरा गेल हमरा ‘ शीर्षक कविता ‘भिन-भिनौज’ का हिन्दी अनुवाद।)

3 Likes · 2 Comments · 268 Views
You may also like:
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
Heart Wishes For The Wave.
Manisha Manjari
संघर्ष
Rakesh Pathak Kathara
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिता ईश्वर का दूसरा रूप है।
Taj Mohammad
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
"शौर्य"
Lohit Tamta
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
हे गुरू।
Anamika Singh
सुंदर सृष्टि है पिता।
Taj Mohammad
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
# मां ...
Chinta netam मन
धुँध
Rekha Drolia
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
दिल मे कौन रहता है..?
N.ksahu0007@writer
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
जब हम छोटे बच्चे थे ।
Saraswati Bajpai
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
Loading...