जानकी माय आन -( कविता)

जँ हम उठलौ आशिष परैछ,हाथ सबटा चार
माय हमर बान्हि राखि देथिन्ह जेना आइये
ज हम बिनु पाग पहिर बहर गेलौ
डर लागै बाबू नहि छोड़ता, ज नैय संस्कृति साजल माथ-पाग
कनिया आचर तर मे चलू आय छूपी जाउ,जानकी माय आन

ऐसन मनुख नैय पाओल कोनो दुनिया मे ,अछि ठामे ठामे
माय भगवती उगना दुनू कानैय, दूरजो कपूत बागडोर तोर मान
मिथिला अक्षर नैय सिखयैह कखनो,की हमर बापक जिरायत
मिथिला मैथिली भाषा संस्कृति ओर लोट चलू सब,नैय सिखब तखन
कनिया आचार तर मे चलू आय छूपी जाउ, जानकी माय आन

परदेश रहू आ गाम रहू, चार टाका कमाबू,मिथिला केर बडाबि शान
मानचित्र मे हमहीं रहि ऐकटा ,पूजे दुनिया चारु धाम
संस्कृति ठेगा सँ नैय तोड़े देहरी,कनिया छोड़े नैय देहपाज
जो रौ कठ-जरुआ नवका पाहुन आयल , रहे रहे संस्कार बहरायत
कनिया आचार तर मे चलू आय छूपी जाउ, जानकी माय आन

मौलिक एवं स्वरचित
@श्रीहर्ष आचार्य

7 Likes · 6 Comments · 126 Views
You may also like:
मन को मोह लेते हैं।
Taj Mohammad
होते हैं कई ऐसे प्रसंग
Dr. Alpa H.
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
महामोह की महानिशा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग ५]
Anamika Singh
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
नई लीक....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
साल गिरह
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वोह जब जाती है .
ओनिका सेतिया 'अनु '
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
किसान
Shriyansh Gupta
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H.
FATHER IS REAL GOD
KAMAL THAKUR
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
पापा हमारे..
Dr. Alpa H.
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam मन
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल
Anis Shah
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
** भावप्रतिभाव **
Dr. Alpa H.
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
Loading...