Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

🙅देखा ख़तरा, भागे सतरा (17)

🙅देखा ख़तरा, भागे सतरा (17)

जांच का डर या
धमकी का असर…?
(कमल के भँवरे)

■प्रणय प्रभात■

2 Likes · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
*अज्ञानी की मन गण्ड़त*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चिंता
चिंता
RAKESH RAKESH
विपक्ष ने
विपक्ष ने
*Author प्रणय प्रभात*
तुम ही कहती हो न,
तुम ही कहती हो न,
पूर्वार्थ
जवानी
जवानी
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
💐अज्ञात के प्रति-39💐
💐अज्ञात के प्रति-39💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
मैं ढूंढता हूं रातो - दिन कोई बशर मिले।
सत्य कुमार प्रेमी
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
आज मैं एक नया गीत लिखता हूँ।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
माँ
माँ
नन्दलाल सुथार "राही"
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
दोहे. . . . जीवन
दोहे. . . . जीवन
sushil sarna
संतुलित रखो जगदीश
संतुलित रखो जगदीश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
2678.*पूर्णिका*
2678.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
***वारिस हुई***
***वारिस हुई***
Dinesh Kumar Gangwar
ये सच है कि उनके सहारे लिए
ये सच है कि उनके सहारे लिए
हरवंश हृदय
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
कृष्णकांत गुर्जर
"रंग"
Dr. Kishan tandon kranti
सहन करो या दफन करो
सहन करो या दफन करो
goutam shaw
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
Harminder Kaur
"सुहागन की अर्थी"
Ekta chitrangini
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
यादों को कहाँ छोड़ सकते हैं,समय चलता रहता है,यादें मन में रह
Meera Thakur
मनुस्मृति का, राज रहा,
मनुस्मृति का, राज रहा,
SPK Sachin Lodhi
जब कोई साथ नहीं जाएगा
जब कोई साथ नहीं जाएगा
KAJAL NAGAR
*ऊन (बाल कविता)*
*ऊन (बाल कविता)*
Ravi Prakash
नववर्ष का आगाज़
नववर्ष का आगाज़
Vandna Thakur
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
Ek jindagi ke sapne hajar,
Ek jindagi ke sapne hajar,
Sakshi Tripathi
Loading...