Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jul 2022 · 1 min read

💔💔…broken

तुमने इस दिल को नहीं,
तड़पते हुए रूह को तोड़ा है!

तूने हर पल साथ निभाकर भी ,
मुझे खुद में ही अकेला छोड़ा है!

तुमने होठों को भिगोने की कीमत,
इन आंसुओं में जोड़ा है !

असल में यह पहली दफा नहीं ,
तुमने कई बार वादों से मुंह मोड़ा है

✍: palak shreya

7 Likes · 3 Comments · 119 Views
You may also like:
**कर्मसमर्पणम्**
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सौदागर
पीयूष धामी
"शेर-ए-पंजाब 'महाराजा रणजीत सिंह'" 🇮🇳 (संक्षिप्त परिचय)
Pravesh Shinde
इरादा
Shivam Sharma
कविता
Sushila Joshi
*वर दो मैया (भक्ति गीतिका)*
Ravi Prakash
प्रात काल की शुद्ध हवा
लक्ष्मी सिंह
बरसात और बाढ़
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
प्यार क्या बला की चीज है!
Anamika Singh
हमसे जो हमारी
Dr fauzia Naseem shad
उम्मीद
Sushil chauhan
कवित्त
Varun Singh Gautam
मैं उसकी ज़िद हूँ ...
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
ज़िन्दगी
akmotivation6418
✍️वो मेरी तलाश में…✍️
'अशांत' शेखर
मेरे गुरु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं मेरा परिवार और वो यादें...💐
लवकुश यादव "अज़ल"
समाजसेवा
Kanchan Khanna
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
समझना तुझे है अगर जिंदगी को।
सत्य कुमार प्रेमी
आ तुझको तुझ से चुरा लू
Ram Krishan Rastogi
दशानन
जगदीश शर्मा सहज
तुम्हारे शहर में कुछ दिन ठहर के देखूंगा।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हमारे जीवन में शिक्षा महत्व
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
आज जानें क्यूं?
Taj Mohammad
" अत्याचारी युद्ध "
Dr Meenu Poonia
not a cup of my tea
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरा होना भी
Seema 'Tu hai na'
कशमकश का दौर
Saraswati Bajpai
Loading...