Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2022 · 1 min read

💐दुधई💐

डॉ अरुण कुमार शास्त्री -एक अबोध बालक 💐अरुण अतृप्त

👌👌दुधई👌👌

इश्क ने बिन बताये चिकोटी काट ली
सारे बदन में मिलन की अग्नि सालती ।।
बैचेनी का मचा है तांडव रह रह कर उकसाये
गली मोहल्ला शहर खेत में उसकी खुशबू आये
इश्क ने बिन बताये चिकोटी काट ली ।।
कौन सी अदालत में चलाऊँ तहरीर मैं
इस जलते जिया की जुल्मी सिपईया की
मांगता है अब रिश्वत रोज मुलाकात की
कौन से थाने में दू दुहाई मैं ओ राम जी 🙆‍♂
इश्क ने बिन बताये चिकोटी काट ली
सारे बदन में मिलन की अग्नि सालती ।।

Language: Hindi
321 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
धीरे-धीरे रूप की,
धीरे-धीरे रूप की,
sushil sarna
ग़ज़ल _ अब दिल गूंजते हैं ।
ग़ज़ल _ अब दिल गूंजते हैं ।
Neelofar Khan
अपने ख्वाबों से जो जंग हुई
अपने ख्वाबों से जो जंग हुई
VINOD CHAUHAN
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
मासुमियत - बेटी हूँ मैं।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
#KOTA
#KOTA
*प्रणय प्रभात*
दहेज की जरूरत नहीं
दहेज की जरूरत नहीं
भरत कुमार सोलंकी
अब तो  सब  बोझिल सा लगता है
अब तो सब बोझिल सा लगता है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अनसुलझे किस्से
अनसुलझे किस्से
Mahender Singh
3229.*पूर्णिका*
3229.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
Satish Srijan
पढ़ना जरूर
पढ़ना जरूर
पूर्वार्थ
सच्चाई ~
सच्चाई ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
माटी
माटी
जगदीश लववंशी
मुक्ति
मुक्ति
Amrita Shukla
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
*बादलों से घिरा, दिन है ज्यों रात है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
(17) यह शब्दों का अनन्त, असीम महासागर !
Kishore Nigam
आप हरते हो संताप
आप हरते हो संताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
Bramhastra sahityapedia
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आत्म बोध
आत्म बोध
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर रोज़ सोचता हूं यूं तुम्हें आवाज़ दूं,
हर रोज़ सोचता हूं यूं तुम्हें आवाज़ दूं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
8--🌸और फिर 🌸
8--🌸और फिर 🌸
Mahima shukla
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
Sangeeta Beniwal
सड़क जो हाइवे बन गया
सड़क जो हाइवे बन गया
आर एस आघात
दिखाने लगे
दिखाने लगे
surenderpal vaidya
"व्यवहार"
Dr. Kishan tandon kranti
सीनाजोरी (व्यंग्य)
सीनाजोरी (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...