Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2022 · 1 min read

✍️कुदरत और फ़ितरत

गिरगिट को रंग बदलने
का हुनर तो क़ुदरत से मिला

मगर यहाँ हर वक़्त रंग
इंसान के फ़ितरत ने बदला
…………………………………………//
©✍️’अशांत’ शेखर
02/10/2022

Language: Hindi
2 Likes · 5 Comments · 326 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कुंडलिया. . .
कुंडलिया. . .
sushil sarna
वंशवादी जहर फैला है हवा में
वंशवादी जहर फैला है हवा में
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मेरी बिटिया
मेरी बिटिया
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
*देना सबको चाहिए, अपनी ऑंखें दान (कुंडलिया )*
*देना सबको चाहिए, अपनी ऑंखें दान (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पेड़ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
In the middle of the sunflower farm
In the middle of the sunflower farm
Sidhartha Mishra
अपने हक की धूप
अपने हक की धूप
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
प्रेम पर्व आया सखी
प्रेम पर्व आया सखी
लक्ष्मी सिंह
तू है तो फिर क्या कमी है
तू है तो फिर क्या कमी है
Surinder blackpen
समय
समय
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सीता स्वयंवर, सीता सजी स्वयंवर में देख माताएं मन हर्षित हो गई री
सीता स्वयंवर, सीता सजी स्वयंवर में देख माताएं मन हर्षित हो गई री
Dr.sima
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
अधिक हर्ष और अधिक उन्नति के बाद ही अधिक दुख और पतन की बारी आ
पूर्वार्थ
"सुर्खी में आने और
*Author प्रणय प्रभात*
"जानिब"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी भी चीज़ की आशा में गँवा मत आज को देना
किसी भी चीज़ की आशा में गँवा मत आज को देना
आर.एस. 'प्रीतम'
कभी सुलगता है, कभी उलझता  है
कभी सुलगता है, कभी उलझता है
Anil Mishra Prahari
वक्त निकल जाने के बाद.....
वक्त निकल जाने के बाद.....
ओसमणी साहू 'ओश'
जब तक बांकी मेरे हृदय की एक भी सांस है।
जब तक बांकी मेरे हृदय की एक भी सांस है।
Rj Anand Prajapati
हीरा उन्हीं को  समझा  गया
हीरा उन्हीं को समझा गया
गुमनाम 'बाबा'
स्त्री
स्त्री
Shweta Soni
' समय का महत्व '
' समय का महत्व '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सामाजिकता
सामाजिकता
Punam Pande
मां
मां
Slok maurya "umang"
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
उस्ताद नहीं होता
उस्ताद नहीं होता
Dr fauzia Naseem shad
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
Paras Nath Jha
Loading...