Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2022 · 1 min read

✍️कुछ ख्वाइशें और एक ख़्वाब…

ख़ुदकुशी
के लिए
ख्वाइशों को
क़ुर्बान कर
ख़ामोशी से
जीते रहना ही
काफी है…!

जिंदगी जीने
के लिए
बस छोटा सा
इक ख़्वाब
आँखों में
जिंदा रहना ही
पर्याप्त है…!
……………………………………………//
⚪️-‘अशांत’ शेखर
02/11/2022

1 Like · 4 Comments · 153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* बाल विवाह मुक्त भारत *
* बाल विवाह मुक्त भारत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
कहीं दूर चले आए हैं घर से
कहीं दूर चले आए हैं घर से
पूर्वार्थ
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ का आशीर्वाद पकयें
माँ का आशीर्वाद पकयें
Pratibha Pandey
💐अज्ञात के प्रति-19💐
💐अज्ञात के प्रति-19💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बचपन -- फिर से ???
बचपन -- फिर से ???
Manju Singh
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
जो सबका हों जाए, वह हम नहीं
Chandra Kanta Shaw
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Leena Anand
आखिरी उम्मीद
आखिरी उम्मीद
Surya Barman
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
Ravi Prakash
शब्द
शब्द
Neeraj Agarwal
देश में क्या हो रहा है?
देश में क्या हो रहा है?
Acharya Rama Nand Mandal
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
नज़्म तुम बिन कोई कही ही नहीं।
Neelam Sharma
प्यार की भाषा
प्यार की भाषा
Surinder blackpen
चल अंदर
चल अंदर
Satish Srijan
Gulab ke hasin khab bunne wali
Gulab ke hasin khab bunne wali
Sakshi Tripathi
"जागो"
Dr. Kishan tandon kranti
@The electant mother
@The electant mother
Ms.Ankit Halke jha
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
चोट
चोट
आकांक्षा राय
कैसे यकीन करेगा कोई,
कैसे यकीन करेगा कोई,
Dr. Man Mohan Krishna
अगर ये सर झुके न तेरी बज़्म में ओ दिलरुबा
अगर ये सर झुके न तेरी बज़्म में ओ दिलरुबा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कभी किसी को इतनी अहमियत ना दो।
कभी किसी को इतनी अहमियत ना दो।
Annu Gurjar
Maa pe likhne wale bhi hai
Maa pe likhne wale bhi hai
Ankita Patel
वो नई नारी है
वो नई नारी है
Kavita Chouhan
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्ते वही अनमोल
रिश्ते वही अनमोल
Dr fauzia Naseem shad
Loading...