Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Dec 2022 · 1 min read

■ मुक्तक / पल-पल जीवन

#मन्तव्य-
जीवन आज या कल नहीं, महज उस एक पल का है, जिसमे हम जीवंत हैं। अगले पल की सौगात मिले न मिले, कोई भरोसा नहीं। ऐसे में आवश्यक है हर पल को जीवन मान कर पूरे उत्साह से जीना। बस….।।
#प्रणय_प्रभात

Language: Hindi
1 Like · 426 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🚩अमर कोंच-इतिहास
🚩अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बोलो क्या कहना है बोलो !!
बोलो क्या कहना है बोलो !!
Ramswaroop Dinkar
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
बात तो बहुत कुछ कहा इस जुबान ने।
Rj Anand Prajapati
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
Dr Archana Gupta
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
Paras Nath Jha
*आम (बाल कविता)*
*आम (बाल कविता)*
Ravi Prakash
3028.*पूर्णिका*
3028.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
# होड़
# होड़
Dheerja Sharma
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
पूर्वार्थ
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
Er. Sanjay Shrivastava
जितना अता किया रब,
जितना अता किया रब,
Satish Srijan
*
*"मां चंद्रघंटा"*
Shashi kala vyas
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
लेती है मेरा इम्तिहान ,कैसे देखिए
Shweta Soni
क्यों मुश्किलों का
क्यों मुश्किलों का
Dr fauzia Naseem shad
कांटों में क्यूं पनाह दी
कांटों में क्यूं पनाह दी
Surinder blackpen
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
कवि अनिल कुमार पँचोली
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है "रत्न"
गुप्तरत्न
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
ruby kumari
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
दिखाओ लार मनैं मेळो, ओ मारा प्यारा बालम जी
gurudeenverma198
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"मोहब्बत"
Dr. Kishan tandon kranti
#कृतज्ञतापूर्ण_नमन
#कृतज्ञतापूर्ण_नमन
*Author प्रणय प्रभात*
भावनाओं की किसे पड़ी है
भावनाओं की किसे पड़ी है
Vaishaligoel
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
लड़की
लड़की
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रभु जी हम पर कृपा करो
प्रभु जी हम पर कृपा करो
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
sushil sarna
Loading...