Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2023 · 1 min read

■ मजबूरी किस की…?

#मजबूरी_किस_की
हमेशा पशोपेश में रहने के आदी “दिल” की या फिर उस से कहीं ज़्यादा उस “दिमाग़” की, जो दिन-रात “दुनियादारी की प्रमेय” रटते हुए “संबंधों के समीकरण” हल करने में जुटा रहता है। पता नहीं किस चाह में। बेग़ैरत कहीं का।
【प्रणय प्रभात】

1 Like · 216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
A heart-broken Soul.
A heart-broken Soul.
Manisha Manjari
🙅आज का सवाल🙅
🙅आज का सवाल🙅
*प्रणय प्रभात*
कोरोना का संहार
कोरोना का संहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
Those who pass through the door of the heart,
Those who pass through the door of the heart,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हमारे अच्छे व्यवहार से अक्सर घृणा कर कोसते हैं , गंदगी करते
हमारे अच्छे व्यवहार से अक्सर घृणा कर कोसते हैं , गंदगी करते
Raju Gajbhiye
*पिता का प्यार*
*पिता का प्यार*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेटी
बेटी
Dr Archana Gupta
नमन सभी शिक्षकों को, शिक्षक दिवस की बधाई 🎉
नमन सभी शिक्षकों को, शिक्षक दिवस की बधाई 🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नियति को यही मंजूर था
नियति को यही मंजूर था
Harminder Kaur
सूरज ढल रहा हैं।
सूरज ढल रहा हैं।
Neeraj Agarwal
"विडम्बना"
Dr. Kishan tandon kranti
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
अच्छी थी पगडंडी अपनी।सड़कों पर तो जाम बहुत है।।
अच्छी थी पगडंडी अपनी।सड़कों पर तो जाम बहुत है।।
पूर्वार्थ
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
मैने वक्त को कहा
मैने वक्त को कहा
हिमांशु Kulshrestha
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
*डॉ मनमोहन शुक्ल की आशीष गजल वर्ष 1984*
*डॉ मनमोहन शुक्ल की आशीष गजल वर्ष 1984*
Ravi Prakash
आवाज मन की
आवाज मन की
Pratibha Pandey
रंगमंच
रंगमंच
Ritu Asooja
नेमत, इबादत, मोहब्बत बेशुमार दे चुके हैं
नेमत, इबादत, मोहब्बत बेशुमार दे चुके हैं
हरवंश हृदय
उतर चुके जब दृष्टि से,
उतर चुके जब दृष्टि से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी – 12 12 12 12 अथवा – लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र – जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा)
छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी – 12 12 12 12 अथवा – लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र – जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा)
Neelam Sharma
पुण्य आत्मा
पुण्य आत्मा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बीज और बच्चे
बीज और बच्चे
Manu Vashistha
कवि के उर में जब भाव भरे
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
3280.*पूर्णिका*
3280.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
** लगाव नहीं लगाना सखी **
** लगाव नहीं लगाना सखी **
Koमल कुmari
दुनियादारी....
दुनियादारी....
Abhijeet
Loading...