Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 2 min read

।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।

।।अथ द्वितीय अध्याय।।
श्री सूतजी बोले हे ऋषियों , आगे की कथा सुनाता हूं।
काशीपुर के निर्धन ब्राह्मण, शतानंद की गाथा गाता हूं।।
एक दिन श्री हरि विष्णु ने, वृद्ध ब्राह्मण का रूप लिया।
पास बुलाया ब्राह्मण को,भटकन का कारण पूछ लिया।।
ब्राम्हण बोले हे भगवन्, मैं भिक्षा के लिए भटकता हूं।
जो भिक्षा में मिलता है,उससे पालन पोषण करता हूं।।
वृद्ध ब्राह्मण रूपी श्री हरि,बोले निर्धन ब्राह्मण से।
सत्यनारायण व्रत करो,दुख मिटाओ जीवन के।।
सत्य नारायण व्रत कथा की,विधि सब कह समझाई।
जागा ब्राह्मण का विवेक, स्व धर्म की सुधि आई।।
हीन काम है भिक्षा का,अब भिक्षा नहीं करूंगा।
सतव़त सदाचरण का पालन, श्री हरि ध्यान धरूंगा।।
धारण किया सत्य व्रत पूजन ,सुख समृद्धि पाई।
लोक और परलोक संवारा, और उत्तम गति पाई।।
एक दिन ब्रह्मदेव के घर में, सत्य नारायण का पूजन था।
भूख प्यास से तृर्षित एक, लकड़हारा आया था।
लकड़हारे ने ब्रह्मदेव से पूछा,हे देव ये किसका पूजन है।
किस प्रयोजन से करते हैं, पूजन सुंदर आयोजन हैं।।
ब्रह्मदेव ने बड़े प्रेम से, सारी बात बताई।
सत्यनारायण सत्य की महिमा,फल श्रुति समझाई।।
सत्य नारायण व्रत पूजन की,विधि सामग्री बतलाई।।
जागी चेतना लकड़हारे की,मन ही मन संकल्प लिया।
श्रद्धा प्रेम और भक्ति से, सत्यनारायण का व्रत ठान लिया।
धर्म अर्थ और काम मोक्ष, विष्णु लोक में स्थान मिला।।
सदाचरण और सद्कर्मों से,स्व विवेक जग जाता है।
ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य शूद्र, जन जन उत्तम गति पाता है।।
राजा हो रंक सभी से, ईश्वर का सम नाता है।
सतपथ पर चलने वाले का,पल पल साथ निभाता है।
सत्य नारायण कथा सार,जन जन को यही सिखाता है।।
।।इति श्री स्कन्द पुराणे रेवा खण्डे सत्य नारायण ब़त कथायां द्वितीय अध्याय सम्पूर्णं।।
।।बोलिए सत्य नारायण भगवान की जय।।

Language: Hindi
1 Like · 95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
पंडित मदनमोहन मालवीय
पंडित मदनमोहन मालवीय
नूरफातिमा खातून नूरी
परिवर्तन
परिवर्तन
विनोद सिल्ला
तू आ पास पहलू में मेरे।
तू आ पास पहलू में मेरे।
Taj Mohammad
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
कृष्णकांत गुर्जर
सच ज़िंदगी के रंगमंच के साथ हैं
सच ज़िंदगी के रंगमंच के साथ हैं
Neeraj Agarwal
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"मैं एक कलमकार हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
एक इस आदत से, बदनाम यहाँ हम हो गए
एक इस आदत से, बदनाम यहाँ हम हो गए
gurudeenverma198
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
3074.*पूर्णिका*
3074.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मचलते  है  जब   दिल  फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
मचलते है जब दिल फ़िज़ा भी रंगीन लगती है,
डी. के. निवातिया
अभी गनीमत है
अभी गनीमत है
शेखर सिंह
ये जो फेसबुक पर अपनी तस्वीरें डालते हैं।
ये जो फेसबुक पर अपनी तस्वीरें डालते हैं।
Manoj Mahato
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
Radhakishan R. Mundhra
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
उसकी दहलीज पर
उसकी दहलीज पर
Satish Srijan
ऐसा इजहार करू
ऐसा इजहार करू
Basant Bhagawan Roy
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
करते रहिए भूमिकाओं का निर्वाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
जिस दिन अपने एक सिक्के पर भरोसा हो जायेगा, सच मानिए आपका जीव
Sanjay ' शून्य'
Kudrat taufe laya hai rang birangi phulo ki
Kudrat taufe laya hai rang birangi phulo ki
Sakshi Tripathi
"मैं सोच रहा था कि तुम्हें पाकर खुश हूं_
Rajesh vyas
■ #NETA को नहीं तो #NOTA को सही। अपना #VOTE ज़रूर दें।।
■ #NETA को नहीं तो #NOTA को सही। अपना #VOTE ज़रूर दें।।
*Author प्रणय प्रभात*
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गांव अच्छे हैं।
गांव अच्छे हैं।
Amrit Lal
श्रृंगारिक दोहे
श्रृंगारिक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...