Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2016 · 1 min read

*ज़िन्दगानी के मुसाफिर*

खुशबू को बिखराता जा
इस जग को महकाता जा
ज़िन्दगानी के मुसाफिर
आगे कदम बढ़ाता जा
*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Comment · 235 Views
You may also like:
ना मायूस हो खुदा से।
Taj Mohammad
सुन ओ बारिश कुछ तो रहम कर
Surya Barman
दिल ए गहराइयों में
Dr fauzia Naseem shad
आईना देखना पहले
gurudeenverma198
स्वार्थ
Vikas Sharma'Shivaaya'
खुदा मिल गया
shabina. Naaz
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
!! लक्ष्य की उड़ान !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
प्यार का मंज़र .........
J_Kay Chhonkar
भूल गयी वह चिट्ठी
Buddha Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बचपन
मनोज कर्ण
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Sahityapedia
राष्ट्रमंडल खेल- 2022
Deepak Kohli
आदर्श पिता
Sahil
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
अरबों रुपए के पटाखे
Shekhar Chandra Mitra
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
मुझे छल रहे थे
Anamika Singh
Anand mantra
Rj Anand Prajapati
श्राप महामानव दिए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नवगीत
Sushila Joshi
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
जिद्दी परिंदा 'फौजी'
Seema 'Tu hai na'
*फहराऍं आज तिरंगा (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
देर
पीयूष धामी
राख
लक्ष्मी सिंह
✍️मैं कैसे आज़ाद हूँ (??)✍️
'अशांत' शेखर
Loading...