Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2016 · 1 min read

*ज़िन्दगानी के मुसाफिर*

खुशबू को बिखराता जा
इस जग को महकाता जा
ज़िन्दगानी के मुसाफिर
आगे कदम बढ़ाता जा
धर्मेन्द्र अरोड़ा

Language: Hindi
1 Comment · 337 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
बनें जुगनू अँधेरों में सफ़र आसान हो जाए
आर.एस. 'प्रीतम'
"अतितॄष्णा न कर्तव्या तॄष्णां नैव परित्यजेत्।
Mukul Koushik
"व्यर्थ सलाह "
Yogendra Chaturwedi
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बारिश
बारिश
विजय कुमार अग्रवाल
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हमें यह ज्ञात है, आभास है
हमें यह ज्ञात है, आभास है
DrLakshman Jha Parimal
सभी मां बाप को सादर समर्पित 🌹🙏
सभी मां बाप को सादर समर्पित 🌹🙏
सत्य कुमार प्रेमी
खंडहर
खंडहर
Tarkeshwari 'sudhi'
"सुन रहा है न तू"
Pushpraj Anant
*वेद उपनिषद रामायण,गीता में काव्य समाया है (हिंदी गजल/ गीतिक
*वेद उपनिषद रामायण,गीता में काव्य समाया है (हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
वह तोड़ती पत्थर / ©मुसाफ़िर बैठा
वह तोड़ती पत्थर / ©मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
कदम बढ़ाकर मुड़ना भी आसान कहां था।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
यह आज है वह कल था
यह आज है वह कल था
gurudeenverma198
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खामोशियां मेरी आवाज है,
खामोशियां मेरी आवाज है,
Stuti tiwari
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
" क़ैदी विचाराधीन हूँ "
Chunnu Lal Gupta
ਪਰਦੇਸ
ਪਰਦੇਸ
Surinder blackpen
"विश्वास का दायरा"
Dr. Kishan tandon kranti
परिवार
परिवार
डॉ० रोहित कौशिक
मीठा खाय जग मुआ,
मीठा खाय जग मुआ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2542.पूर्णिका
2542.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अपने क़द से
अपने क़द से
Dr fauzia Naseem shad
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
ग्वालियर की बात
ग्वालियर की बात
पूर्वार्थ
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
आज के माहौल में
आज के माहौल में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
अपनी अपनी बहन के घर भी आया जाया करो क्योंकि माता-पिता के बाद
Ranjeet kumar patre
Loading...