Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 24, 2022 · 1 min read

हौसला

क़ोई यूँही नही एक नजीर बन जाता है
जो ढलता सूरज समझता वही उगता पाता है

गिरना उठाना और उठना गिरना
जीवन के दो ही पहलू हैं
जो साध लिया इन दोनों को
वो ही तो प्रज्ञ कहाता हैं

मानो इन बातों को जीवन का वन पखवारा हैं
दुःख सुख को साधती और सुख जीवन को लहराता हैं

जो ताम्र विचारो को तज के
जीवन जी ले जाता है
वह इंद्रधनुष सा बारिश में
सत लोगो को ललचाता हैं

चलो मानते है तुम सच हो
क्या झूठा मैं बेचारा हूँ
ज्ञान का दर्शन शून्य हुआ
जब जीवन कुछ कह जाता हैं

हार कोई मुझसे पूछे
हँस कर के मैं कह जाता हूँ
ना कर पाया उसको छोड़ो
लो अब कर के दिखलाता हूँ

साधो सक्ति और विचार करो
की क्या क्या तुम कर सकते हो
तुम उगते सूरज जैसे हो
मैं तो दीपक कहलाता हूँ

महेंद्र राय
9935880999

103 Views
You may also like:
काश अपना भी कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
इन्साफ
Alok Saxena
मुहब्बत क्या है
shabina. Naaz
मनुष्यस्य शरीर: तथा परमात्माप्राप्ति:
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️निशान✍️
'अशांत' शेखर
कलम
Dr Meenu Poonia
तुझसे रूबरू होकर,
Vaishnavi Gupta
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
सावन
Arjun Chauhan
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
✍️वो कौन है ✍️
Vaishnavi Gupta
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मेरे मुस्कराने की वजह तुम हो
Ram Krishan Rastogi
आ तुझको बसा लूं आंखों में।
Taj Mohammad
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
खुशियों का मोल
Dr fauzia Naseem shad
प्रतियोगिता
krishan saini
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
अपनी भाषा
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
समाजसेवा
Kanchan Khanna
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मंजिल
Kanchan Khanna
ज़रूरी नहीं।
Taj Mohammad
ज़िक्र तेरा
Dr fauzia Naseem shad
प्यार तुम्हीं पर लुटा दूँगा।
Buddha Prakash
जिन्दगी और दर्द
Anamika Singh
हौसले मेरे
Dr fauzia Naseem shad
जनसंख्या नियंत्रण कानून कब ?
Deepak Kohli
Loading...