Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 1 min read

हो रही बरसात झमाझम….

हो रही बरसात झमाझम….

हो रही बरसात झमाझम मन मेरा भी मोर हुआ
चित को उसने किया है चोरी वो मेरा चित चोर हुआ।

बादल बरसे मिले धरा से तुम भी मिल लो अपने दिया से
तिमिर दूर कर लो जीवन का क्यों हो तुम यूं खफ़ा-खफ़ा से
हो रही बरसात झमाझम….

पशु भी खुश हैं खुश हैं पक्षी खुश है फ़सल बाजरे की
तुम भी मिलकर खुश हो लो न ये नहीं बात टालने की
हो रही बरसात झमाझम….

आ भी जाओ मत तरसाओ बारिश का नहीं कोई यकीं
अबके बरसे फ़िर कब आयें फिर तरसोगी जैसे जमीं
हो रही बरसात झमाझम….

डॉ. दीपक मेवाती

4 Likes · 802 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
पति पत्नि की नोक झोंक व प्यार (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
रिश्ते वक्त से पनपते है और संवाद से पकते है पर आज कल ना रिश्
रिश्ते वक्त से पनपते है और संवाद से पकते है पर आज कल ना रिश्
पूर्वार्थ
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Sakshi Tripathi
*भरोसा हो तो*
*भरोसा हो तो*
नेताम आर सी
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
माँ में दोस्त मिल जाती है बिना ढूंढे ही
ruby kumari
मेरा अभिमान
मेरा अभिमान
Aman Sinha
*रखो हमेशा इस दुनिया से, चलने की तैयारी (गीत)*
*रखो हमेशा इस दुनिया से, चलने की तैयारी (गीत)*
Ravi Prakash
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
ये जाति और ये मजहब दुकान थोड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
ज़िंदगी मोजिज़ा नहीं
ज़िंदगी मोजिज़ा नहीं
Dr fauzia Naseem shad
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
VEDANTA PATEL
" मिलन की चाह "
DrLakshman Jha Parimal
माया और ब़ंम्ह
माया और ब़ंम्ह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
थोड़ा नमक छिड़का
थोड़ा नमक छिड़का
Surinder blackpen
दोस्त ना रहा ...
दोस्त ना रहा ...
Abasaheb Sarjerao Mhaske
-शेखर सिंह ✍️
-शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
अमृत वचन
अमृत वचन
Dp Gangwar
Pardushan
Pardushan
ASHISH KUMAR SINGH
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
माफ़ कर दो दीवाने को
माफ़ कर दो दीवाने को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छोड़ भगौने को चमचा, चल देगा उस दिन ।
छोड़ भगौने को चमचा, चल देगा उस दिन ।
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सोच बदलनी होगी
सोच बदलनी होगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2320.पूर्णिका
2320.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
मैं किताब हूँ
मैं किताब हूँ
Arti Bhadauria
तुझे खुश देखना चाहता था
तुझे खुश देखना चाहता था
Kumar lalit
एस. पी.
एस. पी.
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"दौर वो अब से जुदा था
*Author प्रणय प्रभात*
* वर्षा ऋतु *
* वर्षा ऋतु *
surenderpal vaidya
महाभारत एक अलग पहलू
महाभारत एक अलग पहलू
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
पहाड़ पर कविता
पहाड़ पर कविता
Brijpal Singh
Loading...