Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

हो गयी है अधूरी गज़ल………

कहीं और चल ज़िन्दगी

हो गई है अधूरी ग़ज़ल ज़िन्दगी,
काफ़िया अब तो अपना बदल ज़िन्दगी।

लड़खड़ाई, गिरी, गिर के फिर उठ गई,
डगमगाई बहुत अब सम्भल ज़िन्दगी।

ज़ुल्मत-ए-शब से लड़ तू सहर के लिए,
स्याह घेरों से बाहर निकल ज़िन्दगी।

ख्वाब खण्डहर हुए तो नई शक्ल दे,
कर दे अब कुछ तो रददो-बदल ज़िन्दगी।

जब डराने लगें तुझको खामोशियाँ,
तोड़ कर मौन शब्दों में ढल ज़िन्दगी।

छोड़ दे ये शहर गर न माफ़िक तुझे,
चल यहाँ से कहीं और चल ज़िन्दगी।

आज नाकाम है “आरसी” क्या हुआ,
कल तेरी होगी फिर से सफल ज़िन्दगी।

-आर० सी० शर्मा “आरसी”

413 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
गुप्तरत्न
नागपंचमी........एक पर्व
नागपंचमी........एक पर्व
Neeraj Agarwal
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
नजर  नहीं  आता  रास्ता
नजर नहीं आता रास्ता
Nanki Patre
कियो खंड काव्य लिखैत रहताह,
कियो खंड काव्य लिखैत रहताह,
DrLakshman Jha Parimal
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
Vicky Purohit
जीवन जोशी कुमायूंनी साहित्य के अमर अमिट हस्ताक्षर
जीवन जोशी कुमायूंनी साहित्य के अमर अमिट हस्ताक्षर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जब तक नहीं है पास,
जब तक नहीं है पास,
Satish Srijan
जैसी नीयत, वैसी बरकत! ये सिर्फ एक लोकोक्ति ही नहीं है, ब्रह्
जैसी नीयत, वैसी बरकत! ये सिर्फ एक लोकोक्ति ही नहीं है, ब्रह्
विमला महरिया मौज
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
*युद्ध लड़ सको तो रण में, कुछ शौर्य दिखाने आ जाना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
थाल सजाकर दीप जलाकर रोली तिलक करूँ अभिनंदन ‌।
Neelam Sharma
कान का कच्चा
कान का कच्चा
Dr. Kishan tandon kranti
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
क्रोटन
क्रोटन
Madhavi Srivastava
*लटें जज़्बात कीं*
*लटें जज़्बात कीं*
Poonam Matia
नीरोगी काया
नीरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सुबह आंख लग गई
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
Is ret bhari tufano me
Is ret bhari tufano me
Sakshi Tripathi
Plastic Plastic Everywhere.....
Plastic Plastic Everywhere.....
R. H. SRIDEVI
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
3043.*पूर्णिका*
3043.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
LALSA
LALSA
Raju Gajbhiye
ज़िंदगी - एक सवाल
ज़िंदगी - एक सवाल
Shyam Sundar Subramanian
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
हिम्मत कर लड़,
हिम्मत कर लड़,
पूर्वार्थ
Loading...