Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

हो गयी है अधूरी गज़ल………

कहीं और चल ज़िन्दगी

हो गई है अधूरी ग़ज़ल ज़िन्दगी,
काफ़िया अब तो अपना बदल ज़िन्दगी।

लड़खड़ाई, गिरी, गिर के फिर उठ गई,
डगमगाई बहुत अब सम्भल ज़िन्दगी।

ज़ुल्मत-ए-शब से लड़ तू सहर के लिए,
स्याह घेरों से बाहर निकल ज़िन्दगी।

ख्वाब खण्डहर हुए तो नई शक्ल दे,
कर दे अब कुछ तो रददो-बदल ज़िन्दगी।

जब डराने लगें तुझको खामोशियाँ,
तोड़ कर मौन शब्दों में ढल ज़िन्दगी।

छोड़ दे ये शहर गर न माफ़िक तुझे,
चल यहाँ से कहीं और चल ज़िन्दगी।

आज नाकाम है “आरसी” क्या हुआ,
कल तेरी होगी फिर से सफल ज़िन्दगी।

-आर० सी० शर्मा “आरसी”

242 Views
You may also like:
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
कुंडलिया छंद ( योग दिवस पर)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पुरानी हवेली
Shekhar Chandra Mitra
कोरोना माई के प्रताप पर 3 कुण्डलिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ईश्वर का खेल
Anamika Singh
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
दूरियाँ
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
जख्म के दाग हैं कितने मेरी लिखी किताबों में /"लवकुश...
लवकुश यादव "अज़ल"
पराई
Seema 'Tu hai na'
हास्य कथा : ताले की खरीद-प्रक्रिया
Ravi Prakash
वो भी क्या दिन थे
shabina. Naaz
सलाम
Shriyansh Gupta
" मेरी प्यारी नींद"
Dr Meenu Poonia
बहुत अच्छे लगते ( गीतिका )
Dr. Sunita Singh
देखिए भी प्यार का अंजाम मेरे शहर में।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
हे मनुष्य!
विजय कुमार 'विजय'
मानपत्र
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं रात-दिन
Dr fauzia Naseem shad
खत्म तुमको भी मैं कर देता अब तक
gurudeenverma198
काश अगर तुम हमें समझ पाते
Writer_ermkumar
चुनाव आते ही....?
Dushyant Kumar
मैं बड़ा ही उलझा रहता हूं।
Taj Mohammad
वतन की बात
पाण्डेय चिदानन्द
है सुकूँ से भरा एक घर ज़िन्दगी
Dr Archana Gupta
दूब
Shiva Awasthi
✍️अग्निपथ...अग्निपथ...✍️
'अशांत' शेखर
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
गणेश चतुर्थी
आचार्य श्रीराम पाण्डेय
शिकायत खुद से है अब तो......
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
Loading...