Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 1 min read

होके रुकसत कहा जाओगे

होके रुकसत कहा जाओगे
जहा भी जाओगे वहा की यादों में हमे ही पाओगे
हर गली हर चौराहे पर यादों के हम बीज बोए है
इतनी आसानी से भुलाए नहीं जाएंगे
किसी और की बाहों में चले तो जाओगे लेकिन हमारी खुसबू कहा से लाओगे
तुम्हारी धड़कन तक में है हम समाए
इतनी आसानी से हम भुलाए नहीं जाएंगे।

47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौसम सुहाना बनाया था जिसने
मौसम सुहाना बनाया था जिसने
VINOD CHAUHAN
#प्रसंगवश...
#प्रसंगवश...
*प्रणय प्रभात*
अपनी भूल स्वीकार करें वो
अपनी भूल स्वीकार करें वो
gurudeenverma198
कौशल्या नंदन
कौशल्या नंदन
Sonam Puneet Dubey
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
पूर्वार्थ
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लंबा सफ़र
लंबा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
सत्य कुमार प्रेमी
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
हर इश्क में रूह रोता है
हर इश्क में रूह रोता है
Pratibha Pandey
3531.🌷 *पूर्णिका*🌷
3531.🌷 *पूर्णिका*🌷
Dr.Khedu Bharti
उर्वशी की ‘मी टू’
उर्वशी की ‘मी टू’
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
वर्तमान समय मे धार्मिक पाखण्ड ने भारतीय समाज को पूरी तरह दोह
शेखर सिंह
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
महल था ख़्वाबों का
महल था ख़्वाबों का
Dr fauzia Naseem shad
मैं
मैं
Dr.Pratibha Prakash
किरायेदार
किरायेदार
Keshi Gupta
अंगुलिया
अंगुलिया
Sandeep Pande
*सीता जी : छह दोहे*
*सीता जी : छह दोहे*
Ravi Prakash
रात भर नींद की तलब न रही हम दोनों को,
रात भर नींद की तलब न रही हम दोनों को,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दोस्ती की कीमत - कहानी
दोस्ती की कीमत - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
I thought you're twist to what I knew about people of modern
I thought you're twist to what I knew about people of modern
Sukoon
बेइमान जिंदगी से खुशी झपट लिजिए
बेइमान जिंदगी से खुशी झपट लिजिए
नूरफातिमा खातून नूरी
मित्र होना चाहिए
मित्र होना चाहिए
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
shabina. Naaz
" कविता और प्रियतमा
DrLakshman Jha Parimal
When winter hugs
When winter hugs
Bidyadhar Mantry
कभी कभी खामोशी भी बहुत सवालों का जवाब होती हे !
कभी कभी खामोशी भी बहुत सवालों का जवाब होती हे !
Ranjeet kumar patre
Loading...