Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2023 · 1 min read

हिंदुस्तान जिंदाबाद

मोहब्बतों से भरा यह जहान जिंदाबाद,
मेरी जान यह मातृभूमि, हिंदुस्तान जिंदाबाद।

गांव की सोंधी माटी,
खेत खलिहान जिंदाबाद,
पंचनद भूमि, द्रविड़ भूखंड, बंगप्रदेश
वीर प्रदेश राजस्थान जिंदाबाद।

हिंद किरीट हिमालय, सप्त भगिनी प्रदेश,
षडऋतुओं का निधि प्रमाण जिंदाबाद।

मोहब्बतों से भरा यह जहान जिंदाबाद,
मेरी जान यह मातृभूमि हिंदुस्तान जिंदाबाद।

विविध पंथ, धर्म, पहनावा खान-पान,
विविधता में एकता की पहचान। जिंदाबाद

आरण्यक कुसुमलता मानसूनी जलक्रीड़ा,
हरियाली वसुंधरा नीला आसमान जिंदाबाद।

मोहब्बतों से भरा यह जहान जिंदाबाद,
मेरी जान यह मातृभूमि हिंदुस्तान जिंदाबाद।

सुभाष, आजाद,ऊधम,भगत,सावरकर
की तपोस्थली,
असफाक, खुदीराम, मदनलाल,
बिस्मिल,करतार का बलिदान जिंदाबाद।

गांधी नेहरू पटेल तिलक की हुंकार जिंदाबाद,
स्वाधीन भारत को करने अमर
सपूतों का योगदान जिंदाबाद।

वसुधैव कुटुंबकम,अमन से भरा
भारतीय समाज जिंदाबाद,

विज्ञान, तकनीकी, शिक्षा चिकित्सा
रक्षा क्षेत्रों में अग्रसर नौजवान जिंदाबाद।

मोहब्बतों से भरा यह जहान जिंदाबाद,
मेरी जान यह मातृभूमि हिंदुस्तान जिंदाबाद।

खेतों को लहू श्वेद से सींचता परिश्रमी
बल पौरुष भारतीय किसान जिंदाबाद

आठों पहर सरहद की चौकशी करते,
वीर जवान जिंदाबाद।

शस्य श्यामला, गणतंत्र राष्ट्र शिरोमणि,
अखंड हिंदुस्तान जिंदाबाद।

मोहब्बतों से भरा यह जहान जिंदाबाद,
मेरी जान यह मातृभूमि हिंदुस्तान जिंदाबाद।

Language: Hindi
1 Like · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इंसानियत
इंसानियत
साहित्य गौरव
******छोटी चिड़ियाँ*******
******छोटी चिड़ियाँ*******
Dr. Vaishali Verma
दर्द -ऐ सर हुआ सब कुछ भुलाकर आये है ।
दर्द -ऐ सर हुआ सब कुछ भुलाकर आये है ।
Phool gufran
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
Desert fellow Rakesh
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
Mahendra Narayan
मिताइ।
मिताइ।
Acharya Rama Nand Mandal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दूसरा मौका
दूसरा मौका
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
प्रभु श्रीराम पधारेंगे
Dr. Upasana Pandey
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
जून की दोपहर (कविता)
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
रमेशराज की ‘ गोदान ‘ के पात्रों विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की ‘ गोदान ‘ के पात्रों विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
समस्या
समस्या
Neeraj Agarwal
विषय:गुलाब
विषय:गुलाब
Harminder Kaur
कच्ची उम्र के बच्चों तुम इश्क में मत पड़ना
कच्ची उम्र के बच्चों तुम इश्क में मत पड़ना
कवि दीपक बवेजा
भोर काल से संध्या तक
भोर काल से संध्या तक
देवराज यादव
■दोहा■
■दोहा■
*Author प्रणय प्रभात*
अन्त हुआ आतंक का,
अन्त हुआ आतंक का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रिश्ते वही अनमोल
रिश्ते वही अनमोल
Dr fauzia Naseem shad
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
तारिणी वर्णिक छंद का विधान
Subhash Singhai
"आदत"
Dr. Kishan tandon kranti
पहचान तो सबसे है हमारी,
पहचान तो सबसे है हमारी,
पूर्वार्थ
गौरवपूर्ण पापबोध
गौरवपूर्ण पापबोध
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*हर मरीज के भीतर समझो, बसे हुए भगवान हैं (गीत)*
*हर मरीज के भीतर समझो, बसे हुए भगवान हैं (गीत)*
Ravi Prakash
राजकुमारी
राजकुमारी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
रिश्ते मोबाइल के नेटवर्क जैसे हो गए हैं। कब तक जुड़े रहेंगे,
Anand Kumar
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
*।। मित्रता और सुदामा की दरिद्रता।।*
Radhakishan R. Mundhra
ठहर गया
ठहर गया
sushil sarna
Loading...