Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

हिंदी की दुर्दशा

एक बार फिर,
हम सब
हिंदी दिवस पर एकत्रित होकर
हिंदी अपनाएं, हिंदी में काम करें
का संकल्प दोहराएंगे
और वर्षपर्यंत अंग्रेजी का दामन थामें
गर्व से ग्रीवा लहराएंगे
मैनें हिंदी की इस दुर्दशा पर
संस्कृत की बड़ी बेटी हिंदी का साक्षात्कार लिया
हिंदी इस बार न तो सकुचाई थी, न सहमी थी
विश्वास से लबरेज, मेरी आंखों में आंखें डालकर
उसने मेरी ही बात मुझसे छीनी थी
कमाल है साहब!
सवाल मुझसे करते हो?
सत्ता के गलियारे में बैठे समाज के ठेकेदारों से
क्या इतना डरते हो?
संविधान निर्मात्री सभा के समक्ष
मेरे अस्तित्व निर्धारण के समय
मैं(हिंदी) एक ही वोट से थी जीती
राजनीति के हाथों की कठपुतली बन
हाशिए पर रहते हुए, अब तक हूं रीती
न अंग्रेजी से बैर मेरा, न सहोदराओं से होड़
फिर भी अपने ही घर में, इतनी उपेक्षित और गौण
चलचित्र,टेली-सीरियल हो या फिर,मोबाइल,फेसबुक और ट्विटर
मंदिर-मस्जिद की अजान हो या नेताओं के भाषण की हुंकार
समझ में सबकी आती हूं, पर शर्म से झुकी जाती हूं.
पूछना उन तथाकथित हिंदी प्रेमियों से
और कहना कि मेरा ये प्रश्न है उनसे
क्या इस बार विश्व हिंदी सम्मेलन में मुझे प्रतिष्ठित करवाओगे
या विदेश यात्रा कर, उपहारों से लदे, खाली हाथ वापस आओगे?

Language: Hindi
291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Madhavi Srivastava
View all
You may also like:
अपना मन
अपना मन
Harish Chandra Pande
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
मार न डाले जुदाई
मार न डाले जुदाई
Shekhar Chandra Mitra
"फूलों की तरह जीना है"
पंकज कुमार कर्ण
वैज्ञानिक युग और धर्म का बोलबाला/ आनंद प्रवीण
वैज्ञानिक युग और धर्म का बोलबाला/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
[06/03, 13:44] Dr.Rambali Mishra: *होलिका दहन*
[06/03, 13:44] Dr.Rambali Mishra: *होलिका दहन*
Rambali Mishra
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
****शिव शंकर****
****शिव शंकर****
Kavita Chouhan
"कुण्डलिया"
surenderpal vaidya
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कुछ लिखा हू तुम्हारी यादो में
कुछ लिखा हू तुम्हारी यादो में
देवराज यादव
*बुढ़ापे का असर है यह, बिना जो बात अड़ते हो 【 हिंदी गजल/गीतिक
*बुढ़ापे का असर है यह, बिना जो बात अड़ते हो 【 हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
पनघट और पगडंडी
पनघट और पगडंडी
Punam Pande
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
मोतियाबिंद
मोतियाबिंद
Surinder blackpen
बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
बन गए हम तुम्हारी याद में, कबीर सिंह
The_dk_poetry
गले लगा लेना
गले लगा लेना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
नारी का बदला स्वरूप
नारी का बदला स्वरूप
विजय कुमार अग्रवाल
#गद्य_छाप_पद्य
#गद्य_छाप_पद्य
*Author प्रणय प्रभात*
"गौरतलब"
Dr. Kishan tandon kranti
हकीकत उनमें नहीं कुछ
हकीकत उनमें नहीं कुछ
gurudeenverma198
मोहन ने मीरा की रंग दी चुनरिया
मोहन ने मीरा की रंग दी चुनरिया
अनुराग दीक्षित
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
2440.पूर्णिका
2440.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*माँ*
*माँ*
Naushaba Suriya
दोस्त का प्यार जैसे माँ की ममता
दोस्त का प्यार जैसे माँ की ममता
प्रदीप कुमार गुप्ता
💐प्रेम कौतुक-360💐
💐प्रेम कौतुक-360💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Loading...