Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2022 · 1 min read

हार फिर होती नहीं…

हार फिर होती नहीं…
~~°~~°~~°
मन ठान ले यदि जीत है ,
तो हार फिर होती नहीं…

सोचता है मन यदि ,
पर्वत शिखर की ऊचाईयाँ।
यदि देखता समुन्दर निकट ,
नापता फिर गहराईयाँ ।
घबराता है तब ही तो मन ,
ये नाकामियों की परछाईंयाँ।
सोचो नहीं तुम राह में ,
चाहे साथ हो तन्हाइयाँ ।
पथ सामने दुर्गम बना ,
पीछे कभी मुड़ना नहीं ।

मन ठान ले यदि जीत है ,
तो हार फिर होती नहीं…

अवसर की कैसी तलाश है ,
अवसर पड़ा हर रोज है ।
काबु खुद पर यदि सीख लें ,
तो अवसर अनोखा आज है।
आती है जिंदगी हर सुबह ,
मौत आती सिर्फ एकबार है।
सिर्फ शर्त एक ही जान लो ,
करो वक़्त की बर्बादी नहीं।
जब तलक ये साँसें बची ,
कभी मौत से डरना नहीं…

मन ठान ले यदि जीत है ,
तो हार जग में होती नहीं…

माना कि राहें है कठिन ,
मंजिल भी जिद्दी बन गए ।
किस्मत की राह रोड़े पडे़ ,
माथे पर शिकन हैं दे रहे ।
उदासी का आलम हर तरफ ,
हर हाल में मुस्कुरायेंगे ।
चिंगारी जो सुलगती नहीं ,
तप की तपिश से सुलगायेंगे ।
मृत्यु पास भी आ जाए तो ,
मन से कभी मरना नहीं…

मन ठान ले यदि जीत है ,
तो हार फिर होती नहीं…

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ३१ /१२/२०२२
पौष,शुक्ल पक्ष,नवमी ,शनिवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

2 Likes · 549 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
बिहार से एक महत्वपूर्ण दलित आत्मकथा का प्रकाशन / MUSAFIR BAITHA
बिहार से एक महत्वपूर्ण दलित आत्मकथा का प्रकाशन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
Vindhya Prakash Mishra
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet kumar Shukla
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
कुडा/ करकट का संदेश
कुडा/ करकट का संदेश
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2684.*पूर्णिका*
2684.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तूफान आया और
तूफान आया और
Dr Manju Saini
****शिव शंकर****
****शिव शंकर****
Kavita Chouhan
"तन्हाई"
Dr. Kishan tandon kranti
बुढ्ढे का सावन
बुढ्ढे का सावन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
राधा
राधा
Mamta Rani
*सरस्वती जी दीजिए, छंद और रस-ज्ञान (आठ दोहे)*
*सरस्वती जी दीजिए, छंद और रस-ज्ञान (आठ दोहे)*
Ravi Prakash
!! दूर रहकर भी !!
!! दूर रहकर भी !!
Chunnu Lal Gupta
ड्यूटी और संतुष्टि
ड्यूटी और संतुष्टि
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नारी पुरुष
नारी पुरुष
Neeraj Agarwal
इतनें रंगो के लोग हो गये के
इतनें रंगो के लोग हो गये के
Sonu sugandh
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
मुरझाना तय है फूलों का, फिर भी खिले रहते हैं।
Khem Kiran Saini
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
सत्य से सबका परिचय कराएं आओ कुछ ऐसा करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
खुद को कभी न बदले
खुद को कभी न बदले
Dr fauzia Naseem shad
हम आगे ही देखते हैं
हम आगे ही देखते हैं
Santosh Shrivastava
निराकार परब्रह्म
निराकार परब्रह्म
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*खादिम*
*खादिम*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वीर हनुमान
वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रमेशराज की तेवरी
रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
पिता
पिता
Swami Ganganiya
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
आधुनिक समय में धर्म के आधार लेकर
पूर्वार्थ
#मेरे_दोहे
#मेरे_दोहे
*Author प्रणय प्रभात*
💐 Prodigy Love-6💐
💐 Prodigy Love-6💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
नज़ाकत को शराफ़त से हरा दो तो तुम्हें जानें
आर.एस. 'प्रीतम'
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
जीवन में बहुत संघर्ष करना पड़ता है और खासकर जब बुढ़ापा नजदीक
Shashi kala vyas
Loading...