Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2023 · 1 min read

ड्रीम-टीम व जुआ-सटा

हर युग की वेला थी, शर्म लज्जा भी एक गहना थी
सब की अपनी मर्यादा थी, पीढ़ी से पीढ़ी होती थी

बेटे की पिता, बेटी की माता से, भाई भाई मे शर्म थी
समाज का अहसास था, शर्मिंदगी का भी आभास था

अब क्या समय दिखाया, बाप ने बेटे के संग सटा लगाया
ड्रीम-टीम बोलकर, जुआ-सटा को मनोरंजन भी बताया

अत्याधिक मोह मे, बिन परिश्रम पालेना ही जुवा बताया था
महाभारत में युधिष्टर ने, जुवे मे हार शर्म लज्जा को गवाया था

तब मामा शकुनि के पासो ने, अपना खेल दिखलाया है
आज क्रिकेट टीम ने, फिर से सब को सटोरिया बनाया है

समय का फेर बदला है, शर्म लज्जा ने अपना भेष बदला है
मोह, लालच की भुख से, शर्म लज्जा को बेच कर खाया है

मधुशाला, कैसिनो, तवायफों का, सरकारी लाइसेंस बनवाया होगा
शकुनि क्रिकेट का ड्रीम टीम होगा, तो युधिष्टर सा हाल सबका होगा

अनिल चौबिसा
9829246588

166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
Vivek Mishra
बात जो दिल में है
बात जो दिल में है
Shivkumar Bilagrami
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
#विश्व_वृद्धजन_दिवस_पर_आदरांजलि
#विश्व_वृद्धजन_दिवस_पर_आदरांजलि
*Author प्रणय प्रभात*
एक शे'र
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सूखा पेड़
सूखा पेड़
Juhi Grover
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
एक तो गोरे-गोरे हाथ,
SURYA PRAKASH SHARMA
संवेदनहीनता
संवेदनहीनता
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पड़ोसन के वास्ते
पड़ोसन के वास्ते
VINOD CHAUHAN
3158.*पूर्णिका*
3158.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
Vishal babu (vishu)
*रिवाज : आठ शेर*
*रिवाज : आठ शेर*
Ravi Prakash
तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन
तिरस्कार,घृणा,उपहास और राजनीति से प्रेरित कविता लिखने से अपन
DrLakshman Jha Parimal
फागुन में.....
फागुन में.....
Awadhesh Kumar Singh
इसकी औक़ात
इसकी औक़ात
Dr fauzia Naseem shad
आंखों की भाषा के आगे
आंखों की भाषा के आगे
Ragini Kumari
गरीब–किसान
गरीब–किसान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
परमपिता तेरी जय हो !
परमपिता तेरी जय हो !
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
सीता ढूँढे राम को,
सीता ढूँढे राम को,
sushil sarna
सबूत- ए- इश्क़
सबूत- ए- इश्क़
राहुल रायकवार जज़्बाती
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
डॉ० रोहित कौशिक
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
पूर्वोत्तर का दर्द ( कहानी संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
वो स्पर्श
वो स्पर्श
Kavita Chouhan
हृदय परिवर्तन
हृदय परिवर्तन
Awadhesh Singh
Sometimes you have to
Sometimes you have to
Prachi Verma
Loading...