Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-437💐

हर मज़े से कट रही है ज़िंदगी,
बहुत कुछ कह रही है ज़िंदगी,
इश्क़,दिल और ये दीवानापन है जो,
निकाल के फेंक रही है ज़िंदगी।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
348 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चर्बी लगे कारतूसों के कारण नहीं हुई 1857 की क्रान्ति
चर्बी लगे कारतूसों के कारण नहीं हुई 1857 की क्रान्ति
कवि रमेशराज
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
SC/ST HELPLINE NUMBER 14566
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मुझे नहीं नभ छूने का अभिलाष।
मुझे नहीं नभ छूने का अभिलाष।
Anil Mishra Prahari
महिला दिवस विशेष दोहे
महिला दिवस विशेष दोहे
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बाट का बटोही ?
बाट का बटोही ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
अगर मध्यस्थता हनुमान (परमार्थी) की हो तो बंदर (बाली)और दनुज
Sanjay ' शून्य'
माँ
माँ
Kavita Chouhan
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
Aman Kumar Holy
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
वो शख्स अब मेरा नहीं रहा,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सामाजिक न्याय
सामाजिक न्याय
Shekhar Chandra Mitra
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दिल हो काबू में....😂
दिल हो काबू में....😂
Jitendra Chhonkar
गरीबी में सौन्दर्य है।
गरीबी में सौन्दर्य है।
Acharya Rama Nand Mandal
■ आज का क़तआ (मुक्तक) 😘😘
■ आज का क़तआ (मुक्तक) 😘😘
*Author प्रणय प्रभात*
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
इक्कीसवीं सदी के सपने... / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
फिर वो मेरी शख़्सियत को तराशने लगे है
'अशांत' शेखर
*कोपल निकलने से पहले*
*कोपल निकलने से पहले*
Poonam Matia
आ अब लौट चले
आ अब लौट चले
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*जरा सोचो तो जादू की तरह होती हैं बरसातें (मुक्तक) *
*जरा सोचो तो जादू की तरह होती हैं बरसातें (मुक्तक) *
Ravi Prakash
*अम्मा*
*अम्मा*
Ashokatv
व्हाट्सएप के दोस्त
व्हाट्सएप के दोस्त
DrLakshman Jha Parimal
2288.पूर्णिका
2288.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
आ रही है लौटकर अपनी कहानी
Suryakant Dwivedi
सूना आज चमन...
सूना आज चमन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
नीर क्षीर विभेद का विवेक
नीर क्षीर विभेद का विवेक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मैं तो महज शराब हूँ
मैं तो महज शराब हूँ
VINOD CHAUHAN
टूटे न जब तक
टूटे न जब तक
Dr fauzia Naseem shad
দিগন্তে ছেয়ে আছে ধুলো
দিগন্তে ছেয়ে আছে ধুলো
Sakhawat Jisan
"रंग भरी शाम"
Dr. Kishan tandon kranti
*गोल- गोल*
*गोल- गोल*
Dushyant Kumar
Loading...