Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-115💐

हर बार मेरे गोश में कुछ कूँज रहा है,
‘एतिबार नहीं है’ ‘एतिबार नहीं है’गूँज रहा है।।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
1 Like · 76 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
ज़िन्दगी की राह
ज़िन्दगी की राह
Sidhartha Mishra
हिन्दी दोहा - दया
हिन्दी दोहा - दया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
विचार मंच भाग - 4
विचार मंच भाग - 4
Rohit Kaushik
दुआ कबूल नहीं हुई है दर बदलते हुए
दुआ कबूल नहीं हुई है दर बदलते हुए
कवि दीपक बवेजा
होली गीत
होली गीत
umesh mehra
बरसात हुई
बरसात हुई
Surya Barman
राम नाम की धूम
राम नाम की धूम
surenderpal vaidya
मतदान
मतदान
Sanjay
मुबहम हो राह
मुबहम हो राह
Satish Srijan
मुनादी कर रहे हैं (हिंदी गजल/ गीतिका)
मुनादी कर रहे हैं (हिंदी गजल/ गीतिका)
Ravi Prakash
When you realize that you are the only one who can lift your
When you realize that you are the only one who can lift your
Manisha Manjari
चिड़िया चली गगन आंकने
चिड़िया चली गगन आंकने
AMRESH KUMAR VERMA
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
#मुबारकां_जी_मुबारकां
#मुबारकां_जी_मुबारकां
*Author प्रणय प्रभात*
* पराया मत समझ लेना *
* पराया मत समझ लेना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी नज़्म, शायरी,  ग़ज़ल, की आवाज हो तुम
मेरी नज़्म, शायरी, ग़ज़ल, की आवाज हो तुम
अनंत पांडेय "INϕ9YT"
नई तरह का कारोबार है ये
नई तरह का कारोबार है ये
shabina. Naaz
दानी
दानी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
आर.एस. 'प्रीतम'
"लड़कर जीना"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
प्रेम और सद्भाव के रंग सारी दुनिया पर डालिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
हरवंश हृदय
💐अज्ञात के प्रति-85💐
💐अज्ञात के प्रति-85💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उमीदों के चरागों को कभी बुझने नहीं देना
उमीदों के चरागों को कभी बुझने नहीं देना
Dr Archana Gupta
ज़िंदगी की कसम
ज़िंदगी की कसम
Dr fauzia Naseem shad
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
अगर आप में व्यर्थ का अहंकार है परन्तु इंसानियत नहीं है; तो म
विमला महरिया मौज
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
डा गजैसिह कर्दम
एक शे'र
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
उसका चेहरा उदास था
उसका चेहरा उदास था
Surinder blackpen
Loading...