Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 1 min read

हर तरफ़ रंज है, आलाम है, तन्हाई है

हर तरफ़ रंज है, आलाम है, तन्हाई है
ज़िंदगी आज तू किस मोड़ पे ले आई है

क़त्ल करने की मुझे जिसने क़सम खाई है
वो कोई ग़ैर नहीं मेरा सगा भाई है

हसरतें हिज्र में दम तोड़ रही थीं अपना
फिर दवा बन के कोई याद चली आई है

लोग अख़बार में छपने को मदद करते हैं
एक से बढ़ के यहां एक तमाशाई है

वक़्त के साथ बदल जाए यह इमकान नहीं
हमने पहचान यह मुश्किल से बना पाई है

तेरी आँखों की नमी से यह अयाँ होता है
“ग़ालिबन दिल की कोई चोट उभर आई है”

हक़ परस्ती जहाँ दम तोड़ रही है अरशद
मैंने उस दौर में जीने की क़सम खाई है
© अरशद रसूल बदायूंनी

2 Likes · 2 Comments · 158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
कवि दीपक बवेजा
प्यार का इम्तेहान
प्यार का इम्तेहान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
??????...
??????...
शेखर सिंह
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
SHAMA PARVEEN
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
ललकार
ललकार
Shekhar Chandra Mitra
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
कहीं फूलों के किस्से हैं कहीं काँटों के किस्से हैं
Mahendra Narayan
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
*जब हो जाता है प्यार किसी से*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ईश्वर है
ईश्वर है
साहिल
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
*लाल सरहद* ( 13 of 25 )
Kshma Urmila
Keep this in your mind:
Keep this in your mind:
पूर्वार्थ
बाल विवाह
बाल विवाह
Mamta Rani
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
बिहार क्षेत्र के प्रगतिशील कवियों में विगलित दलित व आदिवासी चेतना
Dr MusafiR BaithA
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
गुप्तरत्न
💐प्रेम कौतुक-519💐
💐प्रेम कौतुक-519💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2616.पूर्णिका
2616.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🌹जिन्दगी🌹
🌹जिन्दगी🌹
Dr Shweta sood
अमीर
अमीर
Punam Pande
श्रीराम मंगल गीत।
श्रीराम मंगल गीत।
Acharya Rama Nand Mandal
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
Satish Srijan
ये
ये
Shweta Soni
अनुभूति
अनुभूति
Dr. Kishan tandon kranti
सियाचिनी सैनिक
सियाचिनी सैनिक
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
ग़ैरत ही होती तो
ग़ैरत ही होती तो
*Author प्रणय प्रभात*
आजा रे अपने देश को
आजा रे अपने देश को
gurudeenverma198
चलता ही रहा
चलता ही रहा
हिमांशु Kulshrestha
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
पंचांग के मुताबिक हर महीने में कृष्ण और शुक्ल पक्ष की त्रयोद
Shashi kala vyas
बेशर्मी के कहकहे,
बेशर्मी के कहकहे,
sushil sarna
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
*भीड़ से बचकर रहो, एकांत के वासी बनो ( मुक्तक )*
Ravi Prakash
दिवाली
दिवाली
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...