Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

यहां कश्मीर है केदार है गंगा की माया है।

ग़ज़ल

1222/1222/1222/1222
यहां कश्मीर है केदार है गंगा की माया है।
तभी सारे जहां से भी हमारा देश प्यारा है।

सदा रखना पिता माता को ईश्वर के ही दर्जे में,
दिया है दर्द जिसने भी नहीं सुख चैन पाया है।

कहीं मंदिर कहीं मस्जिद समंदर झील औ’र पर्वत,
जिधर देखो नज़र भर के उधर सुंदर नज़ारा है।

खता हर माफ़ कर देंगे, न करना देश से धोखा,
उठाए जो नज़र इस पर, वही दुश्मन हमारा है।

हमारे देश में परिवार जैसा प्यार आपस में,
किसी भी जाति धर्मों का हो भाई सा वो प्यारा है।

जो मेरी इंतजारी में है बैठे बेकरारी में,
उन्हें करने गिले शिकवे ये मिलने का बहाना है।

कहां ‘प्रेमी’ है अब ऐसे लुटा दें प्यार पर सबकुछ,
नहीं अब कृष्ण मिलते हैं न ही अब मिलती राधा है।

………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Safeguarding Against Cyber Threats: Vital Cybersecurity Measures for Preventing Data Theft and Contemplated Fraud
Safeguarding Against Cyber Threats: Vital Cybersecurity Measures for Preventing Data Theft and Contemplated Fraud
Shyam Sundar Subramanian
.........
.........
शेखर सिंह
ये 'लोग' हैं!
ये 'लोग' हैं!
Srishty Bansal
प्रणय गीत --
प्रणय गीत --
Neelam Sharma
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
वे वजह हम ने तमीज सीखी .
Sandeep Mishra
"कीमत"
Dr. Kishan tandon kranti
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ये जनाब नफरतों के शहर में,
ओनिका सेतिया 'अनु '
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
के श्रेष्ठ छथि ,के समतुल्य छथि आ के आहाँ सँ कनिष्ठ छथि अनुमा
DrLakshman Jha Parimal
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
Shekhar Chandra Mitra
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
फेसबुक की बनिया–बुद्धि / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
वह मुस्कुराते हुए पल मुस्कुराते
goutam shaw
सीख
सीख
Adha Deshwal
अगर
अगर
Shweta Soni
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
बनारस की धारों में बसी एक ख़ुशबू है,
Sahil Ahmad
तुम्हारे अवारा कुत्ते
तुम्हारे अवारा कुत्ते
Maroof aalam
एक खाली बर्तन,
एक खाली बर्तन,
नेताम आर सी
आज बहुत याद करता हूँ ।
आज बहुत याद करता हूँ ।
Nishant prakhar
prAstya...💐
prAstya...💐
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रात……!
रात……!
Sangeeta Beniwal
जिन्दगी के रंग
जिन्दगी के रंग
Santosh Shrivastava
तुम आ जाओ एक बार.....
तुम आ जाओ एक बार.....
पूर्वार्थ
आई लो बरसात है, मौसम में आह्लाद (कुंडलिया)
आई लो बरसात है, मौसम में आह्लाद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
चैतन्य
चैतन्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
क्या खोकर ग़म मनाऊ, किसे पाकर नाज़ करूँ मैं,
Chandrakant Sahu
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
शिव प्रताप लोधी
यादों का झरोखा
यादों का झरोखा
Madhavi Srivastava
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
चांद सितारे चाहत हैं तुम्हारी......
Neeraj Agarwal
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
🙅चुनावी चौपाल🙅
🙅चुनावी चौपाल🙅
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...