Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2023 · 1 min read

हरि का घर मेरा घर है

है बेटी तेरी कैसी किस्मत जन्म तेरा हुआ था जब भी अनजान सबसे तू।

तू यहां नहीं जाएगी तू वहां नहीं जाएगी पाबंदी आती थी और पांव में बेड़ियां जैसी थी।

तुझे यह काम भी करना है तुझे वह काम भी करना है ,कोई उसकी भी सुन लो उसके अरमान क्या है दिल में।

जब हुई तेरी विदाई अरमान तभी के दबे रह गए हैं, बेटी तेरी कैसी किस्मत ,जब घर गई घर अपने प्रियतम वहां भी जुबानी सबकी बोले तो घर पराए से आई।

बेटी रो रो बोले प्रभु से ,हे प्रभु घर कौन सा मेरा, घर कौन सा मेरा…….

प्रभु बोले सुन बिटिया ..….संसार है सारा झूठा .मेरा घर है इक सच्चा , मैं तुम्हारा सच्चा पिता मैं ही तुम्हारी माता मेरा ही घर तेरा सच्चा घर ।।

अब बेटी रो रो सबको बोले सुन लो दुनिया वालों मेरा घर भी मिल गया मेरा घर भी मिल गया हरे का घर ही मेरा घर है हरि का घर ही मेरा सच्चा अगर है बाकी सारे संसार के घर है झूठे हरि का घर ही मेरा घर है हरि कजरी मेरा घर।।।।।

Language: Hindi
326 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यूँ मोम सा हौसला लेकर तुम क्या जंग जित जाओगे?
यूँ मोम सा हौसला लेकर तुम क्या जंग जित जाओगे?
'अशांत' शेखर
फूल फूल और फूल
फूल फूल और फूल
SATPAL CHAUHAN
गुनो सार जीवन का...
गुनो सार जीवन का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ कौशल उन्नयन
■ कौशल उन्नयन
*Author प्रणय प्रभात*
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
पहाड़ की सोच हम रखते हैं।
Neeraj Agarwal
"सुर्खियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
Umender kumar
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
ग़ज़ल/नज़्म - हुस्न से तू तकरार ना कर
अनिल कुमार
बड़ी मादक होती है ब्रज की होली
बड़ी मादक होती है ब्रज की होली
कवि रमेशराज
मनीआर्डर से ज्याद...
मनीआर्डर से ज्याद...
Amulyaa Ratan
जब दूसरो को आगे बड़ता देख
जब दूसरो को आगे बड़ता देख
Jay Dewangan
मैं चला बन एक राही
मैं चला बन एक राही
AMRESH KUMAR VERMA
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
*आते हैं बादल घने, घिर-घिर आती रात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शुभ धाम हूॅं।
शुभ धाम हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
बगिया* का पेड़ और भिखारिन बुढ़िया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तुझमें वह कशिश है
तुझमें वह कशिश है
gurudeenverma198
याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
याद है पास बिठा के कुछ बाते बताई थी तुम्हे
Kumar lalit
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
भ्रम जाल
भ्रम जाल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
खुशी की खुशी
खुशी की खुशी
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
आधार छंद - बिहारी छंद
आधार छंद - बिहारी छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
ये   दुनिया  है  एक  पहेली
ये दुनिया है एक पहेली
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
"चाँदनी रातें"
Pushpraj Anant
वक्त-वक्त की बात है
वक्त-वक्त की बात है
Pratibha Pandey
💐अज्ञात के प्रति-7💐
💐अज्ञात के प्रति-7💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सैदखन यी मन उदास रहैय...
सैदखन यी मन उदास रहैय...
Ram Babu Mandal
वोट की खातिर पखारें कदम
वोट की खातिर पखारें कदम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वर्षा के दिन आए
वर्षा के दिन आए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*** कृष्ण रंग ही : प्रेम रंग....!!! ***
*** कृष्ण रंग ही : प्रेम रंग....!!! ***
VEDANTA PATEL
Loading...