Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2023 · 1 min read

हम साथ साथ चलेंगे

फिर वो नई इक आस होगी
टिमटिमायेगा हर सितारा
जुगनुओं से रोशन रात होगी
आज वो अनोखी बात होगी

मुझे दीप फिर जलाना है
रात अंधेरी रोशन करना है
चाँद तुम फिर से इधर आना
चान्दनी से मेरा घर सजाना

मुझे आज फिर से जीना है
ज़ख्म वो पुराने सीना है
खुशियों को मेरा पता दिया
हर लम्हा फिर यूँ बीता लिया

इंतज़ार की घड़ियां खास है
सुंदर,मनोरम आभास है
जलती बुझती लौ प्रदीप की
कभी जगमग आभा उज्ज्वल सी

उम्मीदों के बिखरे मोती
आज फिर करीने से सजेंगे
इक नए खूबसूरत सफर में
हम सदा साथ साथ चलेंगे।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

397 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जुगाड़
जुगाड़
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
Kanchan Alok Malu
बिल्कुल नहीं हूँ मैं
बिल्कुल नहीं हूँ मैं
Aadarsh Dubey
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" मटको चिड़िया "
Dr Meenu Poonia
रंग जीवन के
रंग जीवन के
kumar Deepak "Mani"
3163.*पूर्णिका*
3163.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
मुझे मुझसे हीं अब मांगती है, गुजरे लम्हों की रुसवाईयाँ।
Manisha Manjari
बचपन के पल
बचपन के पल
Soni Gupta
■ एक प्रयास...विश्वास भरा
■ एक प्रयास...विश्वास भरा
*Author प्रणय प्रभात*
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
*दादी ने गोदी में पाली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मौन
मौन
निकेश कुमार ठाकुर
शायद आकर चले गए तुम
शायद आकर चले गए तुम
Ajay Kumar Vimal
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
Rj Anand Prajapati
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
लइका ल लगव नही जवान तै खाले मलाई
Ranjeet kumar patre
NSUI कोंडागांव जिला अध्यक्ष शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana
NSUI कोंडागांव जिला अध्यक्ष शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana
Bramhastra sahityapedia
आहत न हो कोई
आहत न हो कोई
Dr fauzia Naseem shad
सबसे करीब दिल के हमारा कोई तो हो।
सबसे करीब दिल के हमारा कोई तो हो।
सत्य कुमार प्रेमी
"बेरंग शाम का नया सपना" (A New Dream on a Colorless Evening)
Sidhartha Mishra
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
हॅंसी
हॅंसी
Paras Nath Jha
एकांत
एकांत
Monika Verma
* पत्ते झड़ते जा रहे *
* पत्ते झड़ते जा रहे *
surenderpal vaidya
A Beautiful Mind
A Beautiful Mind
Dhriti Mishra
असमान शिक्षा केंद्र
असमान शिक्षा केंद्र
Sanjay ' शून्य'
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
तेरी फ़ितरत, तेरी कुदरत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुश्किल जब सताता संघर्ष बढ़ जाता है🌷🙏
मुश्किल जब सताता संघर्ष बढ़ जाता है🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
शिक्षा बिना जीवन है अधूरा
gurudeenverma198
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
बदल देते हैं ये माहौल, पाकर चंद नोटों को,
Jatashankar Prajapati
हुनर
हुनर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...