Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2024 · 1 min read

“हद”

“हद”
चाहे हो माँ का प्यार,
हद से परे सब बेकार।
हद से परे जब होवे मन,
तो विवेक को करो सवार।

1 Like · 1 Comment · 25 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
*मारीच (कुंडलिया)*
*मारीच (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
शिवनाथ में सावन
शिवनाथ में सावन
Santosh kumar Miri
प्राण प्रतीस्था..........
प्राण प्रतीस्था..........
Rituraj shivem verma
The Profound Impact of Artificial Intelligence on Human Life
The Profound Impact of Artificial Intelligence on Human Life
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बस माटी के लिए
बस माटी के लिए
Pratibha Pandey
हिचकी
हिचकी
Bodhisatva kastooriya
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Maine apne samaj me aurto ko tutate dekha hai,
Sakshi Tripathi
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
Kanchan Khanna
ज्ञानवान  दुर्जन  लगे, करो  न सङ्ग निवास।
ज्ञानवान दुर्जन लगे, करो न सङ्ग निवास।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
मेरी माटी मेरा देश 🇮🇳
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
घर घर रंग बरसे
घर घर रंग बरसे
Rajesh Tiwari
সিগারেট নেশা ছিল না
সিগারেট নেশা ছিল না
Sakhawat Jisan
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
संतोष बरमैया जय
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
सिर्फ विकट परिस्थितियों का सामना
Anil Mishra Prahari
हर खतरे से पुत्र को,
हर खतरे से पुत्र को,
sushil sarna
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
Sunita jauhari
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3409⚘ *पूर्णिका* ⚘
3409⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
उनको मंजिल कहाँ नसीब
उनको मंजिल कहाँ नसीब
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
हरि का घर मेरा घर है
हरि का घर मेरा घर है
Vandna thakur
भगतसिंह की जवानी
भगतसिंह की जवानी
Shekhar Chandra Mitra
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जीवन में समय होता हैं
जीवन में समय होता हैं
Neeraj Agarwal
Loading...