Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे

हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
मुझे वहम में रहने दो सब अपने हैं ll

107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लिबासों की तरह, मुझे रिश्ते बदलने का शौक़ नहीं,
लिबासों की तरह, मुझे रिश्ते बदलने का शौक़ नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सहधर्मिणी
सहधर्मिणी
Bodhisatva kastooriya
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
ये जो नफरतों का बीज बो रहे हो
Gouri tiwari
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
छद्म शत्रु
छद्म शत्रु
Arti Bhadauria
मुझे अंदाज़ है
मुझे अंदाज़ है
हिमांशु Kulshrestha
समझौता
समझौता
Sangeeta Beniwal
आज की बेटियां
आज की बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
किस्मत
किस्मत
Vandna thakur
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
ख्वाहिशों की ना तमन्ना कर
Harminder Kaur
हे ! अम्बुज राज (कविता)
हे ! अम्बुज राज (कविता)
Indu Singh
बुंदेलखंड के आधुनिक कवि पुस्तक कलेक्टर महोदय को भेंट की
बुंदेलखंड के आधुनिक कवि पुस्तक कलेक्टर महोदय को भेंट की
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बदजुबान और अहसान-फ़रामोश इंसानों से लाख दर्जा बेहतर हैं बेजुब
बदजुबान और अहसान-फ़रामोश इंसानों से लाख दर्जा बेहतर हैं बेजुब
*Author प्रणय प्रभात*
"अहमियत"
Dr. Kishan tandon kranti
आधार छन्द-
आधार छन्द- "सीता" (मापनीयुक्त वर्णिक) वर्णिक मापनी- गालगागा गालगागा गालगागा गालगा (15 वर्ण) पिंगल सूत्र- र त म य र
Neelam Sharma
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
विचार ही हमारे वास्तविक सम्पत्ति
Ritu Asooja
आज का श्रवण कुमार
आज का श्रवण कुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*बाढ़*
*बाढ़*
Dr. Priya Gupta
वन  मोर  नचे  घन  शोर  करे, जब  चातक दादुर  गीत सुनावत।
वन मोर नचे घन शोर करे, जब चातक दादुर गीत सुनावत।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
🌹हार कर भी जीत 🌹
🌹हार कर भी जीत 🌹
Dr Shweta sood
जीवन को नया
जीवन को नया
भरत कुमार सोलंकी
रोजगार रोटी मिले,मिले स्नेह सम्मान।
रोजगार रोटी मिले,मिले स्नेह सम्मान।
विमला महरिया मौज
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
Phool gufran
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
Keshav kishor Kumar
** राह में **
** राह में **
surenderpal vaidya
2559.पूर्णिका
2559.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#गणितीय प्रेम
#गणितीय प्रेम
हरवंश हृदय
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
याद
याद
Kanchan Khanna
बेवजह यूं ही
बेवजह यूं ही
Surinder blackpen
Loading...