Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2022 · 1 min read

हँस-हँस कर।

ना पूंछ हाल उसकी ज़िंदगी का यूँ किसी और से।
जब दीवाना खुद ही सबको हँस-हँस कर बता रहा है।।

अब सादगी को कोई दुनियाँ में अदब में लेता नहीं।
सीधा सादा होने पर हर कोई ही उसको सता रहा है।।

✍✍ताज मोहम्मद✍✍

Language: Hindi
Tag: शेर
375 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
*** मैं प्यासा हूँ ***
*** मैं प्यासा हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
2510.पूर्णिका
2510.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
नूरफातिमा खातून नूरी
हर रोज याद आऊं,
हर रोज याद आऊं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
गिरने से जो डरते नहीं.. और उठकर जो बहकते नहीं। वो ही..
गिरने से जो डरते नहीं.. और उठकर जो बहकते नहीं। वो ही.. "जीवन
पूर्वार्थ
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सारे यशस्वी, तपस्वी,
सारे यशस्वी, तपस्वी,
*प्रणय प्रभात*
आरजू
आरजू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
अंधविश्वास का पुल / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अब के मौसम न खिलाएगा फूल
अब के मौसम न खिलाएगा फूल
Shweta Soni
है शिव ही शक्ति,शक्ति ही शिव है
है शिव ही शक्ति,शक्ति ही शिव है
sudhir kumar
गुलदानों में आजकल,
गुलदानों में आजकल,
sushil sarna
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
Anamika Singh
कीजै अनदेखा अहम,
कीजै अनदेखा अहम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आखिर कब तक
आखिर कब तक
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
किसे फर्क पड़ता है
किसे फर्क पड़ता है
Sangeeta Beniwal
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
रक्षा के पावन बंधन का, अमर प्रेम त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हममें आ जायेंगी बंदिशे
हममें आ जायेंगी बंदिशे
Pratibha Pandey
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
*प्रश्नोत्तर अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
"मन बावरा"
Dr. Kishan tandon kranti
जग में उदाहरण
जग में उदाहरण
Dr fauzia Naseem shad
मानवीय कर्तव्य
मानवीय कर्तव्य
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कृष्ण जन्म
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
"लोग क्या कहेंगे" सोच कर हताश मत होइए,
Radhakishan R. Mundhra
*माता (कुंडलिया)*
*माता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गीतिका छंद
गीतिका छंद
Seema Garg
बल से दुश्मन को मिटाने
बल से दुश्मन को मिटाने
Anil Mishra Prahari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
लोककवि रामचरन गुप्त के पूर्व में चीन-पाकिस्तान से भारत के हुए युद्ध के दौरान रचे गये युद्ध-गीत
कवि रमेशराज
Loading...