Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2018 · 1 min read

स्वागत गीत- खिल गए आज हम

स्वागत गीत- खिल गए आज हम
★★★★★★★★★★★★★
आप आये यहाँ खिल गए आज हम
स्वागतम स्वागतम स्वागतम स्वागतम

दूर तम हो गया रोशनी आ गयी
आप आये यहाँ है खुशी छा गयी
आपको देखकर हो गयी आँख नम-
स्वागतम स्वागतम स्वागतम स्वागतम

कैसे स्वागत करें ना समझ पाएं हम
भाग्य पर देखिये कैसे इतरायें हम
मन का पंछी उड़े और चूमे कदम-
स्वागतम स्वागतम स्वागतम स्वागतम

प्यार हमको मिला मान्यवर आपका
हर कली खिल गयी ये असर आपका
हम सभी के लिए आ गए हैं स्वयम-
स्वागतम स्वागतम स्वागतम स्वागतम

– आकाश महेशपुरी

Language: Hindi
Tag: गीत
9 Likes · 4 Comments · 18029 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-16💐
💐अज्ञात के प्रति-16💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुनर्जागरण काल
पुनर्जागरण काल
Dr.Pratibha Prakash
आप दिलकश जो है
आप दिलकश जो है
gurudeenverma198
!!! होली आई है !!!
!!! होली आई है !!!
जगदीश लववंशी
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
व्यापार नहीं निवेश करें
व्यापार नहीं निवेश करें
Sanjay ' शून्य'
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/76.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बस यूं ही
बस यूं ही
MSW Sunil SainiCENA
वीर तुम बढ़े चलो...
वीर तुम बढ़े चलो...
आर एस आघात
कोई यादों में रहा, कोई ख्यालों में रहा;
कोई यादों में रहा, कोई ख्यालों में रहा;
manjula chauhan
(20) सजर #
(20) सजर #
Kishore Nigam
उलझा रिश्ता
उलझा रिश्ता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
J
J
Jay Dewangan
"कैसा जमाना आया?"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
Phool gufran
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
घर से बेघर
घर से बेघर
Punam Pande
"दो पल की जिंदगी"
Yogendra Chaturwedi
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
किसी की किस्मत संवार के देखो
किसी की किस्मत संवार के देखो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुख- दुःख
सुख- दुःख
Dr. Upasana Pandey
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shaily
गुनो सार जीवन का...
गुनो सार जीवन का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हर चीज़ मुकम्मल लगती है,तुम साथ मेरे जब होते हो
हर चीज़ मुकम्मल लगती है,तुम साथ मेरे जब होते हो
Shweta Soni
कमबख़्त इश़्क
कमबख़्त इश़्क
Shyam Sundar Subramanian
सोशलमीडिया की दोस्ती
सोशलमीडिया की दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
ऋतुराज बसंत
ऋतुराज बसंत
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
■ सरोकार-
■ सरोकार-
*Author प्रणय प्रभात*
फूक मार कर आग जलाते है,
फूक मार कर आग जलाते है,
Buddha Prakash
*
*"हिंदी"*
Shashi kala vyas
Loading...