Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2024 · 1 min read

स्वर्णिम दौर

उन दिनों
काटने दौड़ते थे घर
मुँह चिढ़ाते थे किवाड़
घूरते रहते थे रास्ते,
दिल में अटूट प्यार
आँखों में सपने
बस उन्हीं के वास्ते।

बुद्धि भी न जाने
कहाँ- कहाँ से
बहाने गढ़ लेती थी,
हृदय की धड़कन
मिलने की सूरत
हर हाल में ढूँढ़ लेती थी

सच में वो
जीवन का खूबसूरत
और स्वर्णिम दौर था,
जिधर देखो उधर
हम दो ही थे
कोई न और था।

( मेरी प्रकाशित 33वीं काव्य-कृति :
‘पनघट’ से चन्द पंक्तियाँ )

डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति
साहित्य वाचस्पति
हरफनमौला साहित्य लेखक।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 50 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
" मेरा रत्न "
Dr Meenu Poonia
*फूलों मे रह;कर क्या करना*
*फूलों मे रह;कर क्या करना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रामराज्य
रामराज्य
Suraj Mehra
टाईम पास .....लघुकथा
टाईम पास .....लघुकथा
sushil sarna
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
नाथ मुझे अपनाइए,तुम ही प्राण आधार
कृष्णकांत गुर्जर
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
प्यार खुद में है, बाहर ढूंढ़ने की जरुरत नही
Sunita jauhari
गुरु
गुरु
Kavita Chouhan
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
लोकतंत्र में भी बहुजनों की अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा / डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
3142.*पूर्णिका*
3142.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
हिन्दी दोहा बिषय- कलश
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
DrLakshman Jha Parimal
"यही वक्त है"
Dr. Kishan tandon kranti
Hajipur
Hajipur
Hajipur
हमें लगा  कि वो, गए-गुजरे निकले
हमें लगा कि वो, गए-गुजरे निकले
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
*समझौता*
*समझौता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माना जीवन लघु बहुत,
माना जीवन लघु बहुत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*
*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कल्पनाओं की कलम उठे तो, कहानियां स्वयं को रचवातीं हैं।
कल्पनाओं की कलम उठे तो, कहानियां स्वयं को रचवातीं हैं।
Manisha Manjari
!! हे उमां सुनो !!
!! हे उमां सुनो !!
Chunnu Lal Gupta
आंखों में हया, होठों पर मुस्कान,
आंखों में हया, होठों पर मुस्कान,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दृढ़
दृढ़
Sanjay ' शून्य'
हमने सबको अपनाया
हमने सबको अपनाया
Vandna thakur
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
वक्त से वक्त को चुराने चले हैं
Harminder Kaur
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
#आज_का_शेर
#आज_का_शेर
*Author प्रणय प्रभात*
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
Ranjeet kumar patre
भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
VINOD CHAUHAN
Loading...