Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

स्वयंभू

वह कहते हैं–
मैं प्रचारक,
बुद्धिमानी किसी से कम नहीं हूं,
दूसरों की बात क्यों मानूं,
स्वयंभू किसी की बात कभी मानी है <

उसके,
ढोल की लय,
ताल भी अपना है,
लोक लय को कौन फुछे <
ताल–बेताल वाले किसी की बात कभी मानी है <

उसे,
करोड़ों की बोली,
संस्कृति होने की बात मालुम है,
इस पर बेईमान उसकी जारी है,
आत्मकेन्द्रित धून वाले किसी की बात कभी मानी है <

उसे मालुम हैं–
प्राचीन संस्कृति,
भाषा के नाम पर खेती होती है,
इसिलिए खूद और परिवार इसमे तिरपिट है,
चांदी कटाई मे रमने वाले किसी की बात कभी मानी है <
#दिनेश_यादव
काठमाण्डू (नेपाल)

Language: Hindi
1 Like · 70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
View all
You may also like:
भाव गणित
भाव गणित
Shyam Sundar Subramanian
शायरी 2
शायरी 2
SURYA PRAKASH SHARMA
कागज़ ए जिंदगी
कागज़ ए जिंदगी
Neeraj Agarwal
मंगल मय हो यह वसुंधरा
मंगल मय हो यह वसुंधरा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
🙅सीधी बात🙅
🙅सीधी बात🙅
*प्रणय प्रभात*
*धरा पर देवता*
*धरा पर देवता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*डंका बजता योग का, दुनिया हुई निहाल (कुंडलिया)*
*डंका बजता योग का, दुनिया हुई निहाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नदी
नदी
Kumar Kalhans
दामन भी
दामन भी
Dr fauzia Naseem shad
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेरोजगारी के धरातल पर
बेरोजगारी के धरातल पर
Rahul Singh
नहीं देखा....🖤
नहीं देखा....🖤
Srishty Bansal
दस्तक
दस्तक
Satish Srijan
2640.पूर्णिका
2640.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
आदमी और मच्छर
आदमी और मच्छर
Kanchan Khanna
चन्द्रयान
चन्द्रयान
Kavita Chouhan
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
ईगो का विचार ही नहीं
ईगो का विचार ही नहीं
शेखर सिंह
कजरी (वर्षा-गीत)
कजरी (वर्षा-गीत)
Shekhar Chandra Mitra
प्यार की लौ
प्यार की लौ
Surinder blackpen
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नारी शक्ति
नारी शक्ति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*आत्म-मंथन*
*आत्म-मंथन*
Dr. Priya Gupta
"रख हिम्मत"
Dr. Kishan tandon kranti
राम राम सिया राम
राम राम सिया राम
नेताम आर सी
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Don't pluck the flowers
Don't pluck the flowers
VINOD CHAUHAN
Loading...