Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

19, स्वतंत्रता दिवस

🇮🇳स्वतंत्रता दिवस 🇮🇳
आजादी के जश्न में….
सर फक्र से उठ जाते हैं।
शहीदों को याद कर…
शीश स्वत: झुक जाते हैं।
जहां डाल-डाल पर सोने के…
पंछी घरोंदे बनाते हैं।
देशभक्तों की याद में…
जयहिंद के नारे लगाते हैं।
देश की आन-शान पर..
सीने छलनी हो जातें हैं।
😔अफ़सोस कि …
अब स्वतंत्रता का हम …
क्यूँ अर्थ गल्त लगाते हैं।
आजादी की आड़ में…
सब संस्कार भूल जाते हैं।
स्वच्छंदता से विचरण करते…
निर्भया से कांड कर जाते हैं।
दुश्मन से लोहा न लेकर…
श्रद्धा का संहार कर जाते हैं।
🙏🙏आओ🙏🙏…
अब ये प्रण करें ‘मधु’ …
किसी अबला के अश्रु ना बहाएगें!
हर नारी को माँ,बहन-बेटी का दर्जा दे..
सम्मान से शीश नवाऐंगें!!
हर पल आदर- सत्कार से…
आजादी का जश्न मनाएंगे!!!

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr .Shweta sood 'Madhu'
View all
You may also like:
सृजन तेरी कवितायें
सृजन तेरी कवितायें
Satish Srijan
दीदार
दीदार
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
प्यार करोगे तो तकलीफ मिलेगी
Harminder Kaur
करवाचौथ
करवाचौथ
Dr Archana Gupta
मा ममता का सागर
मा ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
एक कुंडलियां छंद-
एक कुंडलियां छंद-
Vijay kumar Pandey
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
2896.*पूर्णिका*
2896.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सबकी विपदा हरे हनुमान
सबकी विपदा हरे हनुमान
sudhir kumar
😢लिव इन रिलेशनशिप😢
😢लिव इन रिलेशनशिप😢
*प्रणय प्रभात*
यलग़ार
यलग़ार
Shekhar Chandra Mitra
बाबर के वंशज
बाबर के वंशज
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मेरा भारत महान --
मेरा भारत महान --
Seema Garg
"निर्णय आपका"
Dr. Kishan tandon kranti
हर दिन एक नई शुरुआत हैं।
हर दिन एक नई शुरुआत हैं।
Sangeeta Beniwal
चलना सिखाया आपने
चलना सिखाया आपने
लक्ष्मी सिंह
"शाम की प्रतीक्षा में"
Ekta chitrangini
खता कीजिए
खता कीजिए
surenderpal vaidya
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
वक्त मिलता नही,निकलना पड़ता है,वक्त देने के लिए।
पूर्वार्थ
-        🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
- 🇮🇳--हमारा ध्वज --🇮🇳
Mahima shukla
गर्मी आई
गर्मी आई
Manu Vashistha
आत्मीयकरण-1 +रमेशराज
आत्मीयकरण-1 +रमेशराज
कवि रमेशराज
कृपया सावधान रहें !
कृपया सावधान रहें !
Anand Kumar
तुम      चुप    रहो    तो  मैं  कुछ  बोलूँ
तुम चुप रहो तो मैं कुछ बोलूँ
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
Perceive Exams as a festival
Perceive Exams as a festival
Tushar Jagawat
*मृत्यु (सात दोहे)*
*मृत्यु (सात दोहे)*
Ravi Prakash
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
सर्दी के हैं ये कुछ महीने
Atul "Krishn"
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
संजय कुमार संजू
Loading...