Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

सोच

सोच
सोच आती है तो कभी जाती है,
कभी अच्छी तो कभी बुरी ,
कभी वैज्ञानिक , तो कभी दार्शनिक
कभी संकीर्ण, तो कभी विराट ….।
सोच कभी लेकर आती है,
समुंदर की लहरों सा ज्वार,
तो कभी बुझ चुकी आग सी ठंडक
कभी आकाश सी अनंत ऊंचाई
तो कभी पाताल सी अथाह गहराई…।
सोच कभी बदल देती है ,
इंसान का भूत ,वर्तमान या भविष्य
सोच आती है शून्य के समान
कभी ना खत्म होने वाली अबूझ पहेली
सोच जिसका न आदि है न अंत है
सोच आती है तो कभी जाती है
कभी अच्छी तो कभी बुरी।
स्वरचित कविता
सुरेखा राठी

3 Likes · 1 Comment · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
कभी खामोशियां.. कभी मायूसिया..
कभी खामोशियां.. कभी मायूसिया..
Ravi Betulwala
*सेना वीर स्वाभिमानी (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद)*
*सेना वीर स्वाभिमानी (घनाक्षरी: सिंह विलोकित छंद)*
Ravi Prakash
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
गोरे तन पर गर्व न करियो (भजन)
Khaimsingh Saini
तू उनको पत्थरों से मार डालती है जो तेरे पास भेजे जाते हैं...
तू उनको पत्थरों से मार डालती है जो तेरे पास भेजे जाते हैं...
parvez khan
राखी (कुण्डलिया)
राखी (कुण्डलिया)
नाथ सोनांचली
लखनऊ शहर
लखनऊ शहर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हार मैं मानू नहीं
हार मैं मानू नहीं
Anamika Tiwari 'annpurna '
मिला है जब से साथ तुम्हारा
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
सफलता
सफलता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
अगर लोग आपको rude समझते हैं तो समझने दें
ruby kumari
2956.*पूर्णिका*
2956.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
बिंते-हव्वा (हव्वा की बेटी)
Shekhar Chandra Mitra
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
Kanchan Khanna
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
आपकी वजह से किसी को दर्द ना हो
Aarti sirsat
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कोई क्या करे
कोई क्या करे
Davina Amar Thakral
"भँडारे मेँ मिलन" हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
gurudeenverma198
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
"दास्तान"
Dr. Kishan tandon kranti
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
अरशद रसूल बदायूंनी
This Love That Feels Right!
This Love That Feels Right!
R. H. SRIDEVI
सब कुर्सी का खेल है
सब कुर्सी का खेल है
नेताम आर सी
उसको फिर उससा
उसको फिर उससा
Dr fauzia Naseem shad
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
Loading...