Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2024 · 1 min read

*हे शारदे मां*

हे शारदे मां

हे शारदे मां! हे शारदे मां !
अज्ञानता से हमें तार दे मां।
वीणा है तेरे हाथों में शोभित,
कंठ में मेरे झनकार दे मां,
सुरों का हमको वरदान दे मां।

हे शारदे मां! हे शारदे मां!
अज्ञानता से हमें तार दे मां।
मन में अंधेरा जो है व्यापित,
निर्बलता से हमें तार दे मां।

हे शारदे मां!हे शारदे मां!
अज्ञानता से हमें तार दे मां।
झूठ और प्रपंच है चहुं ओर फैला,
ऐसे अवगुण से निस्तार दे मां।

हे शारदे मां! हे शारदे मां !
अज्ञानता से हमें तार दे मां।
साक्षरता जिनमें नाम मात्र की हो,
अक्षरों का उनको तू ज्ञान दे मां।

हे शारदे मां! हे शारदे मां!
अज्ञानता से हमें तार दे मां।
हंस वाहिनी कमल पर विराजित,
स्नेह की सरिता का संचार दे मां।

हे शारदे मां! हे शारदे मां!
अज्ञानता से हमें तार देना।
वेदों पुराणों के अध्यायों की,
विद्या का हमको वरदान दे मां।
डॉ प्रिया।
अयोध्या।

Language: Hindi
1 Like · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अनिल
अनिल "आदर्श "
अनिल "आदर्श"
सुख -दुख
सुख -दुख
Acharya Rama Nand Mandal
छल फरेब
छल फरेब
surenderpal vaidya
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
Manisha Manjari
काव्य में विचार और ऊर्जा
काव्य में विचार और ऊर्जा
कवि रमेशराज
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
"धैर्य"
Dr. Kishan tandon kranti
अभाव और साहित्य का पुराना रिश्ता है अभाव ही कवि को नए आलंबन
अभाव और साहित्य का पुराना रिश्ता है अभाव ही कवि को नए आलंबन
गुमनाम 'बाबा'
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही। ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही। ❤️ ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक। उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"चाँदनी रातें"
Pushpraj Anant
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
Anand Kumar
यदि आपके पास नकारात्मक प्रकृति और प्रवृत्ति के लोग हैं तो उन
यदि आपके पास नकारात्मक प्रकृति और प्रवृत्ति के लोग हैं तो उन
Abhishek Kumar Singh
अल्फाज (कविता)
अल्फाज (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
कर्जमाफी
कर्जमाफी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तेरी मेरी तस्वीर
तेरी मेरी तस्वीर
Neeraj Agarwal
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
कागज मेरा ,कलम मेरी और हर्फ़ तेरा हो
Shweta Soni
#नवगीत-
#नवगीत-
*प्रणय प्रभात*
बढ़ती तपीस
बढ़ती तपीस
शेखर सिंह
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यह ज़िंदगी है आपकी
यह ज़िंदगी है आपकी
Dr fauzia Naseem shad
बदलती दुनिया
बदलती दुनिया
साहित्य गौरव
फिलिस्तीन इजराइल युद्ध
फिलिस्तीन इजराइल युद्ध
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
गर बिछड़ जाएं हम तो भी रोना न तुम
Dr Archana Gupta
तेरे जाने के बाद ....
तेरे जाने के बाद ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
सब अनहद है
सब अनहद है
Satish Srijan
सदा बढ़ता है,वह 'नायक' अमल बन ताज ठुकराता।
सदा बढ़ता है,वह 'नायक' अमल बन ताज ठुकराता।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
Loading...