Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2023 · 1 min read

सृष्टि

#justareminderekabodhbalak #drarunkumarshastriblogger

हमें न खोजना होगा,
न कुछ चाहिए विशेष ।
सभी कुछ प्राप्ति होगी,
रहे जो मन प्रभु में शेष ।।

वचन देकर मुकर जाता,
दिलों से खेल करता जो ।
उसी का सामना होगा,
दिग्गजों के प्राण हर्ता जो ।।

तेरी चाहत तेरी बोली से,
नज़र आती है सबको ही ।
पड़े जो लोग धर्म दुविधा में,
सताती चित्त चिंता उनको ही ।।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जीवन की इतने युद्ध लड़े
जीवन की इतने युद्ध लड़े
ruby kumari
जवानी
जवानी
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
विचार, संस्कार और रस [ तीन ]
कवि रमेशराज
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
मैं वो चीज़ हूं जो इश्क़ में मर जाऊंगी।
मैं वो चीज़ हूं जो इश्क़ में मर जाऊंगी।
Phool gufran
दोहा -स्वागत
दोहा -स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
3125.*पूर्णिका*
3125.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सावन‌ आया
सावन‌ आया
Neeraj Agarwal
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
एक इश्क में डूबी हुई लड़की कभी भी अपने आशिक दीवाने लड़के को
Rj Anand Prajapati
झुर्रियों तक इश्क़
झुर्रियों तक इश्क़
Surinder blackpen
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
जाति-धर्म
जाति-धर्म
लक्ष्मी सिंह
आज आंखों में
आज आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
उम्र पैंतालीस
उम्र पैंतालीस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
उतर चुके जब दृष्टि से,
उतर चुके जब दृष्टि से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
बहाव के विरुद्ध कश्ती वही चला पाते जिनका हौसला अंबर की तरह ब
बहाव के विरुद्ध कश्ती वही चला पाते जिनका हौसला अंबर की तरह ब
Dr.Priya Soni Khare
लम्हे
लम्हे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
प्रेममे जे गम्भीर रहै छैप्राय: खेल ओेकरे साथ खेल खेलाएल जाइ
प्रेममे जे गम्भीर रहै छैप्राय: खेल ओेकरे साथ खेल खेलाएल जाइ
गजेन्द्र गजुर ( Gajendra Gajur )
आयी थी खुशियाँ, जिस दरवाजे से होकर, हाँ बैठी हूँ उसी दहलीज़ पर, रुसवा अपनों से मैं होकर।
आयी थी खुशियाँ, जिस दरवाजे से होकर, हाँ बैठी हूँ उसी दहलीज़ पर, रुसवा अपनों से मैं होकर।
Manisha Manjari
नहीं मैं ऐसा नहीं होता
नहीं मैं ऐसा नहीं होता
gurudeenverma198
रणचंडी बन जाओ तुम
रणचंडी बन जाओ तुम
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
कैसे भुला दूँ उस भूलने वाले को मैं,
Vishal babu (vishu)
परवाज़ की कोशिश
परवाज़ की कोशिश
Shekhar Chandra Mitra
राम
राम
Suraj Mehra
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
** जिंदगी  मे नहीं शिकायत है **
** जिंदगी मे नहीं शिकायत है **
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
बहुमूल्य जीवन और युवा पीढ़ी
Gaurav Sony
Loading...