Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

“सूत्र”

“सूत्र”
कभी दुःख- दर्द बाँट सको जिनसे
कुछ ऐसे दोस्त खंगाल के रखना,
जीवन बसर हो सके इत्मीनान से
कोई ऐसा जज्बा उबाल के रखना।

1 Like · 1 Comment · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
'डोरिस लेसिगं' (घर से नोबेल तक)
'डोरिस लेसिगं' (घर से नोबेल तक)
Indu Singh
मेरी एक सहेली है
मेरी एक सहेली है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
स्वयंभू
स्वयंभू
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
🙏🙏श्री गणेश वंदना🙏🙏
umesh mehra
ख़त्म होने जैसा
ख़त्म होने जैसा
Sangeeta Beniwal
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
किसी के दिल में चाह तो ,
किसी के दिल में चाह तो ,
Manju sagar
कोई आदत नहीं
कोई आदत नहीं
Dr fauzia Naseem shad
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
कभी मिले नहीं है एक ही मंजिल पर जानें वाले रास्तें
Sonu sugandh
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भरम
भरम
Shyam Sundar Subramanian
मेरा अभिमान
मेरा अभिमान
Aman Sinha
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
-आजकल मोहब्बत में गिरावट क्यों है ?-
bharat gehlot
रामभक्त हनुमान
रामभक्त हनुमान
Seema gupta,Alwar
ख्वाहिशे  तो ताउम्र रहेगी
ख्वाहिशे तो ताउम्र रहेगी
Harminder Kaur
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
शायद मेरी क़िस्मत में ही लिक्खा था ठोकर खाना
Shweta Soni
अष्टम कन्या पूजन करें,
अष्टम कन्या पूजन करें,
Neelam Sharma
💐 *दोहा निवेदन*💐
💐 *दोहा निवेदन*💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
सितारों को आगे बढ़ना पड़ेगा,
Slok maurya "umang"
जिनका अतीत नग्नता से भरपूर रहा हो, उन्हें वर्तमान की चादर सल
जिनका अतीत नग्नता से भरपूर रहा हो, उन्हें वर्तमान की चादर सल
*प्रणय प्रभात*
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
*नींद आँखों में  ख़ास आती नहीं*
*नींद आँखों में ख़ास आती नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
क्या लिखूं
क्या लिखूं
MEENU SHARMA
"मन-मतंग"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...